Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. internet
  4. /
  5. डिजिटल मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है?

डिजिटल मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है?

डिजिटल मार्केटिंग – डिजिटल मार्केटिंग को आमतौर पर “ऑनलाइन मार्केटिंग” के रूप में भी जाना जाता है। डिजिटल मार्केटिंग से तात्पर्य संभावित ग्राहकों से जुड़ने के लिए इंटरनेट और डिजिटल वार्तालाप के अन्य रूपों का उपयोग करके ब्रांडों की उन्नति से है। इसमें न केवल ईमेल, सोशल मीडिया और वेब-आधारित विज्ञापन हैं, बल्कि मार्केटिंग चैनल के रूप में टेक्स्ट और मल्टीमीडिया संदेश भी हैं।

डिजिटल मार्केटिंग से तात्पर्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर की जाने वाली किसी भी मार्केटिंग प्रक्रिया से है, जो किसी न किसी रूप में कंप्यूटर का उपयोग करती है। इसमें इंटरनेट पर किए गए ऑनलाइन मार्केटिंग प्रयास शामिल हैं। डिजिटल मार्केटिंग करने की प्रक्रिया में, एक व्यवसाय ग्राहकों तक पहुँचने के लिए साइटों, खोज इंजनों, ब्लॉगों, सोशल मीडिया, ईमेल और अन्य समान चैनलों का उपयोग कर सकता है।

पारंपरिक मार्केटिंग से अलग, यह निश्चित है और अक्सर इसे “वन-वे” वार्तालाप के रूप में संदर्भित किया जाता है। डिजिटल मार्केटिंग एक सतत परिवर्तनशील, गतिशील प्रक्रिया है। ग्राहक बिलबोर्ड या प्रिंट विज्ञापन के माध्यम से किसी व्यवसाय से जुड़ नहीं सकते हैं, हालांकि डिजिटल मार्केटिंग चैनल एक व्यवसाय और उसके वास्तविक या संभावित ग्राहकों के बीच दो-तरफा बातचीत करता है।

यह भी पढ़ें : Network kitne type ke hote hai

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार –

डिजिटल मार्केटिंग मुख्य रूप से आठ प्रकार से की जाती है जिनमें से निम्नलिखित दिए गए हैं –

  • सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search Engine Optimization) – एसईओ वेबसाइटों की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार करने की प्रक्रिया है ताकि खोज इंजन परिणाम पृष्ठों पर उच्च रैंक किया जा सके और वेबसाइटों पर जैविक यातायात प्राप्त किया जा सके।
  • सर्च इंजन मार्केटिंग (Search Engine Marketing) – SEM भुगतान किए गए ऑनलाइन विज्ञापन का उपयोग करता है ताकि खोज इंजनों के भीतर वेबसाइट की समझ को बढ़ाया जा सके। SEO के साथ संबद्धता में अक्सर Search Engine Marketing का उपयोग किया जाता है।
  • पे-पर-क्लिक (Pay-Per-Click) – पीपीसी विज्ञापन के लिए एक ऑनलाइन व्यवस्था है जहां एक व्यवसाय केवल अपने विज्ञापनों के लिए भुगतान करता है, जब कोई व्यक्ति उन पर क्लिक करता है।
  • सोशल मीडिया मार्केटिंग (Social Media Marketing) – एसएमएम व्यावसायिक उत्पादों या सेवाओं का विज्ञापन करने के लिए सोशल मीडिया चैनलों का उपयोग करने का तरीका है। सोशल मीडिया टेस्टमेकर्स का उपयोग जिसे अक्सर प्रभावशाली मार्केटिंग के रूप में जाना जाता है, सोशल मीडिया मार्केटिंग में प्रचलित है।
  • ईमेल मार्केटिंग (E-mail marketing)- ईमेल मार्केटिंग व्यवसायों को ब्रांडेड, प्रचार सामग्री सीधे ईमेल के माध्यम से अंतिम ग्राहकों को भेजने के लिए लागू करती है।
  • संबद्ध विपणन (Affiliate Marketing)- संबद्ध विपणन एक उपलब्धि-आधारित अभ्यास है जो एक सामान्य नेटवर्क के भीतर राजस्व साझाकरण और भुगतान-प्रति-बिक्री (पीपीएस) भत्ता लागू करता है।
  • सामग्री विपणन (Content Marketing)- सामग्री विपणन ऑनलाइन ग्राहकों को पाठ, वीडियो या ऑडियो सामग्री के प्रकटीकरण और निपटान को संदर्भित करता है। ब्लॉग, वीडियो और पॉडकास्ट व्यवसायों के लिए सामग्री विपणन में शामिल होने के सामान्य तरीके हैं।
  • मूल विज्ञापन (Native Ad)- मूल विज्ञापन में एक माध्यम में संवाददाता विपणन सामग्री शामिल होती है, जो अंतर्निहित संदेश और विपणन उद्देश्यों को समान रूप से महत्वपूर्ण बनाती है। प्रायोजित सामग्री, जिसमें एक व्यवसाय एक विशिष्ट वेबसाइट पर अपनी सामग्री पोस्ट करता है, देशी विज्ञापन का एक सामान्य डिज़ाइन है।

यह भी पढ़ें : HTTP और WWW में क्या अंतर है?

डिजिटल मार्केटिंग से क्या मतलब है?

अपनी वस्तुएं और सेवाओं की डिजिटल साधनो से मार्केटिंग करने की प्रतिक्रिया को डिजिटल मार्केटिंग कहते है । डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट के माध्यम से करते हैं । इंटरनेट, कंप्यूटर, मोबाइल फ़ोन , लैपटॉप , website Advertisements या किसी और applications द्वारा हम इससे जुड सकते हैं। … इसे ऑनलाइन मार्केटिंग भी कहा जा सकता है।

डिजिटल मार्केटिंग कैसे शुरू करे?

Digital Marketing बिजनेस कैसे करे 
Get Training
Experiment करे या Practical knowledge ले
Office खरीदे या Rent पर ले
अपनी डिजिटल Marketing agency का नाम रजिस्टर करे
उपकरण और खर्चे
एजेंसी के नाम से खुद की अपनी वेबसाइट बनाये
Bank Account भी open करे
लोगो को hire करे

डिजिटल मार्केटिंग में क्या क्या सिखाया जाता है?

डिजिटल मार्केटिंग एक बहुत बढ़ा क्षेत्र है और जिसमे कई तरह के कोर्स कराए जाते हैं, जिनमें डिसप्ले एडरवरटाइज़िंग, सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) और सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (एसईओ), सोशल मीडिया मार्केटिंग (एसएमएम), ईमेल मार्केटिंग, मोबाइल मार्केटिंग व इनसे जुड़े सभी मार्केटिंग के दूसरे कोर्स करवाए जाते हैं।

डिजिटल बिजनेस क्या होता है?

इस डिजिटल बिजनेस में मुख्य रूप से Google Search, Social Media, email और दुसरे Websites का इस्तमाल किया जाता है, ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ने के लिए। एक reality की बात यह है की पहले समय के मुकाबले आज के समय मैं लोग सबसे ज्यादा समय online ही व्यतीत करते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग क्यों जरूरी है?

डिजिटल मार्केटिंग के जरिये आप अपने product या सर्विस को ग्राहकों के पास बहुत ही आसानी से कम समय मे पहुँचा सकते है। इस प्रकार आपके व्यापार में मुनाफा होगा। आप  डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा अपने business से लाखों रुपये का मुनाफा कमा सकते है। सभी लोग Digital हो गये है क्योंकि वो कोई उत्पाद खरीदने के लिये बाजार नही जाना चाहता है।

डिजिटल मार्केटिंग तथा ट्रेडिशनल मार्केटिंग में क्या अंतर होता है?

डिजिटल मार्केटिंग तथा ट्रेडिशनल मार्केटिंग में क्या अंतर होता है –
डिजिटल मार्केटिंग करने में तुलना में कम पैसा लगता है। बल्कि ट्रेडिशनल मार्केटिंग करने में तुलना में ज्यादा पैसा लगता है । डिजिटल मार्केटिंग द्वारा ब्रांड नाम जल्दी बनाया जा सकता है ।

Linkedin मार्केटिंग का क्या उपयोग है?

लिंक्डइन उपयोगकर्ताओं को प्रोफाइल बनाने और अनुकूलित करने और समान रुचि वाले लोगों के साथ जुड़ने की अनुमति देता है। Linkedin आज के समय में एक सामाजिक नेटवर्किंग के लिए सबसे बड़ा मंच बन गया है, जो नौकरी के अवसरों वाले लोगों की सहायता करता है।

ऑनलाइन विजिबिलिटी क्या है इन हिंदी?

डिजिटल मार्केटिंग में विजिबिलिटी का मतलब यह होता है की, वह कौन कौन सी ऐसी जगह है, मतलब की प्लेटफार्म हैं, जिसका उपयोग करके हम अपनी प्रोडक्ट का प्रमोशन आसानी से कर सकते हैं ।

3 thoughts on “डिजिटल मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.