Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. उत्तराखंड पर्यटन
  6. /
  7. उत्तराखंड की संस्कृति क्यों प्रसिद्ध है?

उत्तराखंड की संस्कृति क्यों प्रसिद्ध है?

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में आपको बताने वाला हूं कि उत्तराखंड इतना प्रसिद्ध क्यों है और इसके पीछे के क्या-क्या कारण हैं तो अगर आप जानना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें और अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो मुझे नीचे कमेंट में जरूर बताएं तो चलिए दोस्तों इसलिए को शुरू करते हैं।

दोस्तों उत्तराखंड भारत देश का सबसे खूबसूरत ओर पहाड़ों से घिरा हुआ छोटा राज्य है ओर उत्तराखंड में ‘पहाड़ी‘ संस्कृति है। उत्तराखंड को पहले उत्तरांचल के नाम से भी जाना जाता था, जिसे देवभूमि देवताओं की भूमि” भी कहा जाता है, क्योंकि वहां बड़ी संख्या में तीर्थ मंदिर स्थित हैं, बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री चार धाम यात्रा करते हैं। ओर लोक नृत्य, संगीत और त्यौहार उत्तराखंड संस्कृति का एक बड़ा हिस्सा हैं। भूमि हिमालय और प्राचीन मंदिरों की सुंदरता से धन्य है। दिवाली, होली और नवरात्रि जैसे विशिष्ट हिंदू त्योहार यहां बहुत उत्साह के साथ मनाए जाते हैं। तो चलिए उन सभी कारणों के बारे में जानते है जिससे उत्तरखंड की संस्कृति इतनी प्रसिद्ध है।

उत्तराखंड की वेशभूषा ( traditional dress of uttarakhand )
उत्तराखंड की वेशभूषा ( traditional dress of uttarakhand )
इन्हें भी पढ़ें: Why is Uttarakhand so famous in hindi?

उत्तराखंड की संस्कृति के प्रसिद्ध होने के कारण-

उत्तराखंड के मुख्यतः 2 भाग है जिसे गढ़वाल ओर कुमाऊ के नाम से जाता जाता है। ओर इस दोनों भागों की अपनी अलग अलग संस्कृति है-

  1. गढ़वाली संस्कृति: गढ़वाली यहाँ बोली जाने वाली मुख्य भाषा है जिसमें जौनसारी, मार्ची, जढ़ी और सैलानी सहित कई बोलियाँ भी हैं। गढ़वाल में कई जातीय समूहों और जातियों के लोग रहते हैं। इनमें राजपूत शामिल हैं, जिनके बारे में माना जाता है कि वे आर्य मूल के हैं, ब्राह्मण जो राजपूतों के बाद या बाद में चले गए, गढ़वाल के आदिवासी जो उत्तरी इलाकों में रहते हैं और जिनमें जौनसारी, जाध, मार्च और वन गूजर शामिल हैं।
  2. कुमाऊंनी संस्कृति: कुमाऊं के लोग कुमैया, गंगोला, सोरयाली, सिराली, अस्कोटी, दानपुरिया, जोहरी, चौगरखयाली, मझ कुमैया, खसपरजिया, पछाई और रौचौभाई सहित 13 बोलियां बोलते हैं। भाषाओं के इस समूह को मध्य पहाड़ी भाषाओं के समूह के रूप में जाना जाता है। कुमाऊं अपने लोक साहित्य में भी समृद्ध है जिसमें मिथक, नायक, नायिकाएं, बहादुरी, देवी-देवता और रामायण और महाभारत के पात्र शामिल हैं। कुमाऊं का सबसे लोकप्रिय नृत्य रूप छलारिया के नाम से जाना जाता है और यह क्षेत्र की मार्शल परंपराओं से संबंधित है।
  3. उत्तराखंड का लोक नृत्य और संगीत: उत्तराखंड के लोगों का जीवन संगीत और नृत्य से भरपूर होता है। नृत्य को उनकी परंपराओं का एक प्रमुख हिस्सा माना जाता है। कुछ लोक नृत्यों में शामिल हैं:
    • बरदा नाटी देहरादून जिले के जौनसार भवर क्षेत्र का लोकप्रिय नृत्य है
    • लंगवीर नृत्य पुरुषों द्वारा किया जाने वाला एक कलाबाजी नृत्य है
    • पांडव नृत्य संगीत और नृत्य के रूप में महाभारत का वर्णन है।
  4. देवभूमि उत्तराखंड: अपनी प्राचीन संस्कृति के लिए जाना जाता है। रंगारंग समाज दो प्रमुख क्षेत्रों गढ़वाल और कुमाऊं में बंटा हुआ है। उत्तराखंड के लोगों की धार्मिक और सामाजिक-सांस्कृतिक इच्छाएं क्षेत्र में आयोजित विभिन्न मेलों और त्योहारों में देखी जा सकती हैं। ये मेले अब सभी प्रकार के अव्यवस्थित सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक आदान-प्रदान के लिए उल्लेखनीय चरण बन गए हैं।
  5. प्रचीन मंदिर: माना यह जाता है की उत्तराखंड में लाखों सालों से देवी ओर देवतावों का निवास है, जिससे यह के लोग बड़ी श्रद्धा से इन सभी देवी ओर देवतावों
  6. उत्तराखंड की पारंपरिक पोशाकें: गढ़वाल पहाड़ियों के निवासियों का यहां के ठंडे मौसम के कारण कपड़े पहनने का अपना तरीका है, जिसके परिणामस्वरूप ऊनी कपड़े तैयार करने के लिए भेड़ या बकरी से प्राप्त ऊन का उपयोग किया जाता है।
    • पुरुषों की पारंपरिक पोशाक: लगभग हर कोई एक जैसा ड्रेसिंग स्टाइल फॉलो करता है। सबसे अधिक पहना जाने वाला निचला वस्त्र या तो धोती या लुंगी है। विभिन्न रंगों के कुर्ते ऊपरी वस्त्र के रूप में पहने जाते हैं। इसके अलावा, इस पारंपरिक पोशाक को पूरा करने के लिए हेडगियर या पगड़ी एक आवश्यक ऐड-ऑन है। कुर्ता-पायजामा उत्तराखंड के पुरुषों के लिए एक और बहुत प्रसिद्ध विकल्प है। सर्दी के मौसम में पुरुषों के साथ-साथ महिलाएं भी ऊनी जैकेट के साथ-साथ स्वेटर भी पहनती हैं।
    • महिलाओं की पारंपरिक पोशाक: घागरी एक लंबी स्कर्ट है जिसे उत्तराखंड की ज्यादातर महिलाएं पहनती हैं। यह एक सुंदर रंग की चोली के साथ पूरक है जो एक भारतीय ब्लाउज है और सिर को ढकने वाला एक कपड़ा यानी ओर्नी है। यह ओर्नी आमतौर पर कमर से मजबूती से जुड़ी होती है। यह गढ़वाली और कुमाऊंनी दोनों की महिलाओं की पारंपरिक पोशाक है। घाघरा-पिछौरा कुमाऊँनी महिलाओं की पारंपरिक दुल्हन की पोशाक है जो घाघरा लहंगा-चोली के समान है। पिछौरा एक कुमाऊँनी आवरण (एक घूंघट की तरह अधिक) है जिसे सोने और चांदी की कढ़ाई से सजाया जाता है।
  7. बोली/भाषा: उत्तरखंड राज्य की अपनी एक अलग ही बोली/भाषा है, ओर ये उत्तराखंड के दोनों भागों मे थोड़ी अलग अलग बोली जाती है, जिसे गढ़वाली भाषा पर कुमाउनी भाषा भी कहा जाता है। गढ़वाली मुख्य बोली जाने वाली भाषा है जो हिंदी से निकलती है। मध्य पहाड़ी की कुमाऊँनी और गढ़वाली बोलियाँ क्रमशः कुमाऊँ और गढ़वाल क्षेत्र में बोली जाती हैं। जौनसारी और भोटिया बोलियाँ भी क्रमशः पश्चिम और उत्तर में आदिवासी समुदायों द्वारा बोली जाती हैं। हालाँकि, शहरी आबादी ज्यादातर हिंदी में बातचीत करती है।
  8. स्थानीय लोग: गढ़वाल ओर कुमाऊ के लोगों की जीवन शैली स्वदेशी जनता और विभिन्न बाहरी लोगों की सभ्यताओं का एक आकर्षक मिश्रण प्रस्तुत करती है जो कभी-कभी यहां बस जाते हैं। समाज की चाल और संगीत गढ़वाल के व्यक्तियों और संस्कृति के एक मौलिक टुकड़े को आकार देता है।
इन्हें भी पढ़ें: Top 10 less known and beautiful places of Uttarakhand in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.