Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. उत्तराखंड पर्यटन
  6. /
  7. त्रियुगीनारायण कैसे जाए? | त्रियुगीनारायण कहाँ स्थित है?

त्रियुगीनारायण कैसे जाए? | त्रियुगीनारायण कहाँ स्थित है?

त्रियुगीनारायण मंदिर कहाँ स्थित है? | Triyuginarayan Mandir kha hai

त्रियुगीनारायण मंदिर उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित हैं। त्रियुगीनारायण मंदिर के लिए सबसे पहले आपको सोनप्रयाग पहुंचना पड़ेगा। सोनप्रयाग से मंदिर की दूरी लगभग 08 किलोमीटर के आसपास हैं। सोनप्रयाग से 04 किलोमीटर आगे ही गौरीकुंड स्थित है जहां से आप केदारनाथ की पैदल यात्रा सुरू करते हैं।

त्रियुगीनारायण मंदिर
त्रियुगीनारायण मंदिर

त्रियुगीनारायण कैसे पहुंचें? । how to reach triyuginarayan

सड़क मार्ग से त्रियुगीनारायण कैसे पहुंचें? (By Road) –

त्रियुगीनारायण, उत्तराखंड 246171″ – त्रियुगीनारायण जाने के लिए आपको सबसे पहले ऋषिकेश या हरिद्वार पहुँचना होगा। यहां से आपको त्रियुगीनारायण के लिए कार या बस मिल जायेगी। आप चाहें तो यहाँ से गाड़ी बुक करके भी आ सकते हैं। ऋषिकेश से त्रियुगीनारायण की दूरी 220 किलोमीटर है और हरिद्वार से त्रियुगीनारायण की दूरी 244 किलोमीटर है, जोकि रूद्रप्रयाग तक राष्ट्रीय राजमार्ग NH 7 से होकर जाता है और उससे आगे यह सोनप्रयाग तक राष्ट्रीय राजमार्ग 107 से होकर जाता है।

ट्रेन से त्रियुगीनारायण कैसे पहुंचें? ( By Train ) –

त्रियुगीनारायण का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश और हरिद्वार में स्थित है यहां पहुँचने के बाद आप टैक्सी या बस की मदद से चोपता पहुँच सकते हैं। ऋषिकेश से त्रियुगीनारायण की दूरी 220 किलोमीटर है और हरिद्वार से त्रियुगीनारायण की दूरी 244 किलोमीटर है। ऋषिकेश से हरिद्वार की दूरी 20.6 किलोमीटर है।

हवाई मार्ग से त्रियुगीनारायण कैसे पहुंचें? ( By Air ) –

त्रियुगीनारायण के लिए कोई हवाई अड्डा नहीं है, लेकिन अगर आप हवाई मार्ग से आना चाहते हो तो आप केवल देहरादून जोलीग्रान्ट एयरपोर्ट आ सकते हैं। त्रियुगीनारायण के सबसे पास हवाई अड्डा देहरादून जोलीग्रान्ट में है। देहरादून से आप गाड़ी या बस की मदद से त्रियुगीनारायण बहुत आसानी से पहुँच सकते हो। आप चाहें तो ऋषिकेश से बाइक या स्कूटी रेंट पर भी ले सकते हैं। जोलीग्रान्ट से त्रियुगीनारायण की दूरी 230 किलोमीटर की है।

त्रियुगीनारायण क्यों प्रसिद्ध है? | Triyuginarayan kyu femas hai

यहीं पर ही भगवान शिव और पार्वती माता का विवाह हुआ था। ऐसी मान्यता है की यहाँ विवाह करने वाले जोड़ों का वैवाहिक जीवन हमेशा सुखमय रहता हैं। इसके साथ ही जो लोग यहाँ मंदिर के दर्शन करने आते हैं वे अखंड धुनी की भस्म भी अपने साथ लेकर जाते हैं ताकि उनके वैवाहिक जीवन में आई कोई भी बाधा दूर हो जाये और सब कुछ सुख-शांति से हो।

मंदिर के गर्भगृह में भगवान विष्णु माँ लक्ष्मी व भूदेवी के साथ विराजमान हैं लेकिन मंदिर के अन्य स्थलों का संबंध शिव-पार्वती के विवाह से हैं। मंदिर में जो रूद्र कुंड हैं उसको लेकर मान्यता हैं कि इसमें स्नान करने से व्यक्ति की संतान प्राप्ति की इच्छा पूर्ण होती हैं। इसलिए कई निस्संतान दंपत्ति यहाँ आकर रुद्रकुंद में स्नान भी करते है।

त्रियुगीनारायण मन्दिर की प्रमुख चीजें?

  • रूद्र कुंड – भगवान शिव व माता पार्वती के विवाह का साक्षी बनने के लिए स्वर्ग लोक से सभी देवी-देवता भी पधारे थे। रूद्र कुंड में उन सभी के द्वारा स्नान किया गया था।
  • विष्णु कुंड – त्रियुगीनारायण मंदिर में स्थित दूसरे कुंड का नाम विष्णु कुंड हैं। इस कुंड में भगवान विष्णु के द्वारा स्नान किया गया था।
  • ब्रह्म कुंड – मंदिर में तीन कुंड स्थित है जिसमें से एक कुंड ब्रह्म कुंड है। मान्यता हैं कि भगवान ब्रह्मा ने विवाह संस्कार शुरू करने से पहले इसी कुंड में स्नान किया था जिसके बाद से इस कुंड का नाम ब्रह्म कुंड पड़ गया था।
  • खंड धुनी – यह इस मंदिर का मुख्य आकर्षण हैं। इस मंदिर का निर्माण त्रेतायुग में किया गया था। इस अखंड धुनी के चारों ओर फेरे लगाकर ही भगवान शिव व माता पार्वती का विवाह संपन्न हुआ था। यह अग्नि तीन युगों से जल रही हैं जिस कारण इसे त्रियुगी मंदिर अर्थात तीन युगों से जल रही अखंड धुनी कहा जाता हैं।
  • ब्रह्म शिला – मंदिर के सामने जहाँ भगवान शिव व माता पार्वती ने विवाह किया था, उस स्थल को ब्रह्म शिला का नाम दिया गया है।
  • त्रियुगीनारायण मंदिर का स्तंभ इस मंदिर में एक पतली से डंडी बंधी है। मान्यता हैं कि भगवान शिव को विवाह में एक गाय मिली थी। उस गाय को इसी डंडी से बांधा गया था। यह डंडी आज भी वैसे ही उसी स्थान पर है।

त्रियुगीनारायण मंदिर की कथा? | triyuginarayan ki katha

भगवान शिव की पहली पत्नी का नाम माता सती था। माता सती ने अपने पिता राजा दक्ष के द्वारा शिव का अपमान किये जाने के कारण अग्नि कुंड में कूदकर आत्म-दाह कर लिया था। इसके पश्चात शिव ने राजा दक्ष का वध कर दिया था व लंबी योग साधना में चले गए थे।

कई वर्षों के पश्चात पर्वतराज हिमालय के यहाँ एक पुत्री का जन्म हुआ जिनका नाम पार्वती था। पार्वती माता सती का ही पुनर्जन्म था। माता पार्वती ने हजारों वर्षों तक उत्तराखंड के गौरीकुंड में भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए कठोर तपस्या की। माता पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें दर्शन दिए।

इसके बाद माता पार्वती ने उनके सामने विवाह का प्रस्ताव रखा जिसे भगवान शिव ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। यह सुनकर पार्वती के पिता हिमालायाराज ने विवाह की तैयारियां शुरू कर दी। भगवान शिव के द्वारा पार्वती से विवाह का प्रस्ताव स्वीकार किये जाने के पश्चात तीनों लोकों में तैयारियां शुरू हो गयी थी।

उस समय हिमालय राज की नगरी हिमवत की राजधानी त्रियुगीनारायण गाँव ही था। इसलिए त्रियुगीनारायण गाँव के इस त्रियुगीनारायण मंदिर में दोनों का विवाह करवाने का निर्णय किया गया। इस विवाह के साक्षी बनने स्वर्ग लोक से सभी देवी-देवता यहाँ पधारे थे।

माँ पार्वती के भाई के रूप में भगवान विष्णु ने सभी कर्तव्यों का निर्वहन किया था व विवाह की रस्मों को निभाया था। स्वयं भगवान ब्रह्मा इस विवाह के पुरोहित बने थे और विवाह संपन्न करवाया था। भगवान शिव व माता पार्वती के द्वारा इस मंदिर में विवाह किये जाने के पश्चात यहाँ की महत्ता बहुत बढ़ गयी थी। एक और मान्यता के अनुसार, भगवान विष्णु का पंचम अवतार भगवान वामन ने भी इसी स्थल पर जन्म लिया था। इसलिए यहाँ भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.