Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. उत्तराखंड पर्यटन
  6. /
  7. सुरकंडा देवी मन्दिर कहाँ है? सुरकंडा देवी कैसे पहुंचें?

सुरकंडा देवी मन्दिर कहाँ है? सुरकंडा देवी कैसे पहुंचें?

सुरकंडा देवी मंदिर भारत के उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल क्षेत्र में स्थित एक हिंदू मंदिर है। यह समुद्र तल से 2,700 मीटर की ऊंचाई पर सुरकंडा चोटी के शीर्ष पर स्थित है। मंदिर देवी सुरकंडा को समर्पित है, जिन्हें हिंदू देवी पार्वती का अवतार माना जाता है। मंदिर में हर साल हजारों तीर्थयात्री आते हैं, खासकर नवरात्रि उत्सव के दौरान।

सुरकंडा देवी
सुरकंडा देवी

सुरकंडा देवी मन्दिर क्यों प्रसिद्ध है?

सुरकंडा देवी मंदिर अपने खूबसूरत स्थान और हिंदू पौराणिक कथाओं के साथ अपने जुड़ाव के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर सुरकंडा शिखर के शीर्ष पर स्थित है, जो हिमालय के पहाड़ों और आसपास की घाटियों के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, सुरकंडा देवी देवी पार्वती का अवतार हैं, और मंदिर को उन स्थानों में से एक माना जाता है जहां देवी ने भगवान शिव को अपने पति के रूप में प्राप्त करने के लिए तपस्या की थी। यह भी माना जाता है कि इस मंदिर में शुद्ध मन से यहां प्रार्थना करने वालों को मनोकामनाएं प्रदान करने की शक्ति है। ये कारक हिंदुओं के बीच सुरकंडा देवी मंदिर की लोकप्रियता में योगदान करते हैं।

सुरकंडा देवी मन्दिर का इतिहास?

सुरकंडा देवी मंदिर के इतिहास के बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है। यह एक प्राचीन मंदिर माना जाता है, और हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी सुरकंडा ने भगवान शिव को अपने पति के रूप में प्राप्त करने के लिए इस स्थान पर तपस्या की थी। यह मंदिर भारत के उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में सुरकंडा चोटी के शीर्ष पर स्थित है, और हर साल हजारों तीर्थयात्रियों द्वारा इसका दौरा किया जाता है, खासकर नवरात्रि उत्सव के दौरान। मंदिर देवी सुरकंडा को समर्पित है, जो हिंदू देवी पार्वती के अवतार के रूप में पूजनीय हैं।

सुरकंडा देवी मन्दिर में बर्फ कब पड़ती है?

सुरकंडा देवी मंदिर भारत के उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में समुद्र तल से 2,700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस क्षेत्र में ठंडी और बर्फीली सर्दी का अनुभव होता है, तापमान कभी-कभी जमाव बिंदु से नीचे चला जाता है। सर्दियों के महीनों के दौरान इस क्षेत्र में हिमपात आम बात है, और संभावना है कि सुरकंडा देवी मंदिर और आसपास के क्षेत्र में इस दौरान कुछ हिमपात होता है।

मौसम के पैटर्न के आधार पर बर्फबारी का सही समय साल-दर-साल अलग-अलग हो सकता है। यदि आप सर्दियों के महीनों के दौरान सुरकंडा देवी मंदिर जाने की योजना बना रहे हैं, तो ठंड और बर्फीले मौसम के लिए तैयार रहने और उचित कपड़े पहनने की सलाह दी जाती है।

सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग से सुरकंडा देवी मन्दिर कैसे पहुँचे?

सुरकंडा देवी मंदिर भारत के उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित है। यहां बताया गया है कि आप परिवहन के विभिन्न तरीकों से मंदिर कैसे पहुंच सकते हैं:

  • सड़क मार्ग से: मंदिर टिहरी शहर से लगभग 35 किलोमीटर और देहरादून शहर से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इन दोनों जगहों से सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। देहरादून और टिहरी से कंडोली गाँव के लिए नियमित बस सेवा उपलब्ध है, जो मंदिर का निकटतम गाँव है। कंडोली से, आप मंदिर तक पहुँचने के लिए टैक्सी या जीप किराए पर ले सकते हैं।
  • ट्रेन से: सुरकंडा देवी मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून में स्थित है, जो लगभग 80 किलोमीटर दूर है। देहरादून रेल द्वारा भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। देहरादून से, आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या मंदिर तक पहुँचने के लिए बस ले सकते हैं।
  • हवाई जहाज से: सुरकंडा देवी मंदिर का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 60 किलोमीटर दूर है। देहरादून हवाई मार्ग से भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डे से, आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या मंदिर तक पहुँचने के लिए बस ले सकते हैं।

सुरकंडा देवी मन्दिर में घूमने के प्रमुख स्थान?

सुरकंडा देवी मंदिर भारत के उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में सुरकंडा चोटी की चोटी पर एक सुंदर और शांत वातावरण में स्थित है। मंदिर घने जंगलों से घिरा हुआ है और हिमालय के पहाड़ों और आसपास की घाटियों के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। मंदिर सुरकंडा देवी का मुख्य आकर्षण है, और हर साल हजारों तीर्थयात्री यहां आते हैं। मंदिर देवी सुरकंडा को समर्पित है, जो हिंदू देवी पार्वती के अवतार के रूप में पूजनीय हैं।

मंदिर के अलावा, आप सुरकंडा देवी मंदिर के पास कुछ अन्य स्थान भी देख सकते हैं:

  • कंडोलिया मंदिर: यह मंदिर कंडोली गांव में स्थित है, जो सुरकंडा देवी मंदिर के सबसे नजदीक का गांव है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और माना जाता है कि यहां शुद्ध हृदय से प्रार्थना करने वालों को मनोकामनाएं पूरी करने की शक्ति होती है।
  • सुरकंडा चोटी: सुरकंडा चोटी इस क्षेत्र की सबसे ऊंची चोटी है और हिमालय के पहाड़ों और आसपास की घाटियों के लुभावने दृश्य प्रस्तुत करती है। चोटी सुरकंडा देवी मंदिर के पास स्थित है और मंदिर से एक छोटी ट्रेक द्वारा पहुँचा जा सकता है।
  • टिहरी बांध: टिहरी बांध उत्तराखंड के टिहरी जिले में भागीरथी नदी पर स्थित एक बड़ा बांध है। बांध सुरकंडा देवी मंदिर से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और हिमालय के पहाड़ों और आसपास की घाटियों के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है।

सुरकंडा देवी मन्दिर में रहने की क्या ब्यवस्था है?

सुरकंडा देवी मंदिर के पास आवास के लिए कुछ विकल्प हैं। मंदिर में रहने की कोई सुविधा नहीं है, लेकिन आस-पास के गाँवों में कुछ गेस्टहाउस और होटल हैं जहाँ आप ठहर सकते हैं। मंदिर का निकटतम गाँव कंडोली है, जो लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कंडोली में कुछ गेस्टहाउस और होटल हैं जो बुनियादी आवास सुविधाएं प्रदान करते हैं। आप पास के शहर टिहरी या देहरादून शहर में भी रुक सकते हैं, जो क्रमशः मंदिर से लगभग 35 किलोमीटर और 80 किलोमीटर दूर स्थित हैं। इन जगहों पर कई होटल और गेस्टहाउस हैं जो कई प्रकार के आवास विकल्प प्रदान करते हैं।

यदि आप सुरकंडा देवी मंदिर की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो सलाह दी जाती है कि आप अपना आवास पहले से बुक कर लें, क्योंकि पीक टूरिस्ट सीज़न के दौरान यह जगह भीड़ हो सकती है। आप अपना खुद का कैंपिंग गियर ले जाने और मंदिर के आधार पर एक तम्बू स्थापित करने पर भी विचार कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.