Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. उत्तराखंड पर्यटन
  6. /
  7. सतोपंथ ताल उत्तराखंड संपूर्ण जानकारी | स्वर्गरोहनी बद्रीनाथ चमोली

सतोपंथ ताल उत्तराखंड संपूर्ण जानकारी | स्वर्गरोहनी बद्रीनाथ चमोली

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में मैं आपको उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित बद्रीनाथ से लगे नर नारायण पर्वत के मध्य स्थित सतोपंथ ताल के बारे में बताऊंगा। इस लेख के माध्यम से में आपको यहां जाने की संपूर्ण जानकारी दूंगा कि आपको कहां से जाना है और किन-किन चीजों की आपको यहां जाने के लिए आवश्यकता पड़ेगी।

सतोपंथ ताल
सतोपंथ ताल

सतोपंथ ताल ट्रेक की दूरी | satopanth tal trek distance

अगर आप मैदानी इलाकों से आ रहे हैं तो सबसे पहले आपको हरिद्वार ऋषिकेश से श्रीनगर जोशीमठ होते हुए बद्रीनाथ पहुंच जाना है। समुद्र तल से बद्रीनाथ की ऊंचाई 10170 फीट है। बद्रीनाथ से सतोपंथ की दूरी 27 किलोमीटर है और बद्रीनाथ से 3 किलोमीटर आगे माणा गांव से सतोपंथ की दूरी 24 किलोमीटर है हालांकि माणा गांव तक आप गाड़ी से जा सकते हैं तो कुल मिलाकर आपको 24 किलोमीटर की पैदल यात्रा सतोपंथ के लिए माणा गांव से करनी होती है।

सतोपंथ ताल ट्रेक जाने का रास्ता | satopanth tal trek route map

सतोपंथ के लिए रास्ता नर और नारायण पर्वत के बीच से होकर गुजरता है यात्रा नर और नारायण जी की माता के मंदिर से शुरू करनी होती है यहां जाने के लिए आपको खासकर तीन चीजों की मुख्य तौर से जरूरत पड़ेगी किस में से सबसे पहला है गाइड दूसरा फोल्डर तीसरा डीएफओ (DFO) की परमिशन यानी कि (Divisional Forest Officer) की परमिशन आपको यहां जाने से पहले लेनी पड़ेगी तभी जाकर आप सतोपंथ स्वर्ग रोहिणी यात्रा कर सकते हैं।

  • माणा गांव => चमतोली
  • चमतोली => लक्ष्मीवन
  • लक्ष्मीवन => पांडूधारा
  • पांडूधारा => सहस्त्रधारा
  • सहस्त्रधारा => चक्रतीर्थ
  • चक्रतीर्थ => सतोपंथ ताल

सतोपंथ ताल जाने में कितना खर्चा आएगा? | Satopanth trek cost

सतोपंथ ताल ट्रैक करने में आपका बद्रीनाथ से सतोपंथ और सतोपंथ से वापस बद्रीनाथ तक पर पर्सन के हिसाब से 8000 से 10000 रुपये खर्चा आ जाएगा। इसके अलावा आप बद्रीनाथ तक कैसे आए कितना खर्चा आया वह अलग है। इस यात्रा में आपका बद्रीनाथ तक आने का खर्चा नहीं जोड़ा गया है। यह सिर्फ बद्रीनाथ से सतोपंथ ट्रैक का आने जाने का खर्चा है क्योंकि यहां पर जाने के लिए कम से कम 4 से 5 दिन का ट्रैक आने जाने का होता है जिसमें की इतना खर्चा आ जाता है।

सतोपंथ ट्रेक परमिट |Satopanth trek permit

सतोपंथ ट्रेक परमिट बद्रीनाथ में डीएफओ (DFO) यानी कि (Divisional Forest Officer) से मिलता है। आपको उनसे जाके उनको मिलके परमिट बनाना होता है। साथ ही साथ आपको गाइड भी अपने साथ ले जाना अनिवार्य है। बिना गाइड के आप नहीं जा सकते क्यूंकि आप रास्ता खो जाओगे।

सतोपंथ ताल कहाँ स्थित है? | Where is Satopanth Tal located?

बद्रीनाथ से सतोपंथ की दूरी 27 किलोमीटर है और बद्रीनाथ से 3 किलोमीटर आगे माणा गांव से सतोपंथ की दूरी 24 किलोमीटर है हालांकि माणा गांव तक आप गाड़ी से जा सकते हैं तो कुल मिलाकर आपको 24 किलोमीटर की पैदल यात्रा सतोपंथ के लिए माणा गांव से करनी होती है। सतोपंथ ताल ट्रेक कठिन स्तर का है। आप 10,830 फीट की ऊंचाई से चढाई चढ़ना शुरू करते हैं और 3 दिनों में 15,100 फीट की ऊंचाई तक पहुंच जाते हैं।

सतोपंथ ताल का तापमान |satopanth temperature

सतोपंथ ताल एक साफ हरे पानी की झील है, यह समुद्र तल से 4600 मीटर की ऊंचाई पर त्रिकोणीय झील है और बर्फ से ढकी चोटियों के बीच में सुशोभित है। सतोपंथ ताल उत्तराखंड के चमोली जिले में और बद्रीनाथ तीर्थ के पास स्थित एक उच्च ऊंचाई वाली झील है। धार्मिक महत्व के अलावा सतोपंथ उत्तराखंड में लोकप्रिय ट्रेक में से एक बन गया है। यह ग्लेशियर ट्रेक हिमालय के राजसी दृश्य प्रस्तुत करता है।

सतोपंथ ताल का तापमान गर्मियों के समय में 2 डिग्री से – 3 डिग्री तक होता है तथा शीतकाल में यहां का तापमान -30 से -40 डिग्री तक होता है। शीतकाल में यहां पर ट्रैकिंग नहीं की जा सकती। यहां पर ट्रैकिंग सिर्फ मई-जून से और अक्टूबर महीने तक ही संभव है इसके बाद यहां पर नवंबर से लेकर मार्च तक ट्रैकिंग करना संभव नहीं है

सतोपंथ ताल ट्रैक | satopanth tal trek

पहला दिन : बद्रीनाथ से लक्ष्मी वन –

नाश्ते के बाद, होटल से चेक आउट करें और भारत-तिब्बत सीमा पर भारत के अंतिम गाँव, माना के लिए 3 किमी का छोटा ट्रेक शुरू करें। अपने परमिट की जाँच के बाद, वसुंधरा जलप्रपात की ओर अपना प्रस्थान करें। माणा से सरस्वती मंदिर को पार करने के बाद, ट्रेक की ढाल तेज हो जाएगी। नीचे बहने वाली शक्तिशाली अलकनंदा नदी के साथ साथ आगे बढ़ें।

कुछ घंटों के बाद, ऊंचाई से पानी के गिरने की आवाज अचानक आपके कानों से टकराएगी। आवाज के करीब चलते ही वसुंधरा फॉल का नजारा आपकी आंखों में आ जाएगा। इस झरने में औषधीय गुण हैं और यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुका है। झरने की सुंदरता को आत्मसात करें और लक्ष्मी वन के घने सन्टी जंगलों से गुजरना शुरू करें। मोराइन पर 4 किमी आगे चलें और आप लक्ष्मी वन में अपने शिविर स्थल पर आ जाएंगे।

दूसरा दिन : लक्ष्मी वन से चक्रतीर्थ –

सुंदर सूर्योदय के दृश्य को कैप्चर करें और आज के ट्रेक के लिए तैयार हो जाएं। यह एक छोटा लेकिन दर्शनीय ट्रेक है जो सतोपंथ घाटी को पार करेगा। धनो ग्लेशियर के विशाल टर्मिनल मोराइन के बीच हरे रंग के पैच के साथ अच्छी तरह से चिह्नित निशान बिंदीदार है।

रास्ते में आप घाटी में रंग-बिरंगे अल्पाइन फूल खिलते देख सकते हैं, जिसके बाद सतोपंथ घाटी में सबसे पहले भागीरथी की तीन परोपकारी चोटियों का विहंगम दृश्य दिखाई देगा। धीरे-धीरे सहस्त्रधारा की खड़ी चोटी पर चढ़कर चक्रतीर्थ कैंपिंग ग्राउंड तक पहुंचें। शिविर स्थल पर पहुंचने पर, जमीन पर लुढ़कें और नीलकंठ पर्वत के पश्चिम की ओर चमकते हुए देखें।

तीसरा दिन : चक्रतीर्थ से सतोपंथ ताल –

केंद्र में चौखम्बा, अपनी बाईं ओर नीलकंठ, सतोपंथ, और पार्वती चोटियों और अपने दाहिनी ओर बालकुन का आकर्षक दृश्य देखने के लिए, सुबह-सुबह अपने तंबू खोल दें। विशाल पहाड़ियों की गूढ़ आभा में सराबोर होते हुए, एक कप चाय की चुस्की लें।

अब बोल्डर और मोराइन की गूढ़ भूलभुलैया से गुजरने के लिए तैयार हो जाइए। आप पूरी घाटी में हिमस्खलन की लगातार गड़गड़ाहट की आवाज भी सुन सकते हैं। यह एक मुश्किल खिंचाव है इसलिए इसे पार करते समय धैर्य रखें। पिछले 2 किमी के ट्रेक में, आपको कुछ खड़ी ढलानों से निपटना पड़ सकता है और हिमनदों के ऊपर बिखरी ढीली मिट्टी पर चलना पड़ सकता है। रिज के शीर्ष पर पहुंचने पर, आपको त्रिकोणीय आकार की सतोपंथ झील का पहला नजारा दिखाई देगा।

पन्ना झील से लुभावने दृश्य आपके पैरों को झकझोर कर रख देंगे। आप मौनी बाबा के नाम से जाने जाने वाले एक संत को भी देख सकते हैं जो झील के पास रहते हैं और बहुत लंबे समय से बात करना बंद कर चुके हैं। एक आम धारणा है कि भोजन उपलब्ध न होने पर वह केवल सूर्य और वायु पर ही जीवित रह सकता है। यहां कुछ समय बिताने के बाद चक्रतीर्थ शिविर में उतरना शुरू करें। चक्रतीर्थ के लिए 5 किमी का वापसी ट्रेक कुछ घंटों में पूरा किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.