Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. भारत यात्रा
  6. /
  7. रामेश्वरम की यात्रा कैसे करें?

रामेश्वरम की यात्रा कैसे करें?

रामेश्वरम की यात्रा कैसे करें?

रामेश्वरम भारत के चार धामों और बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है जो की तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में स्थित है। अब हम आपको सम्पूर्ण जानकारी देंगे कि आप अगर रामेश्वरम के दर्शन करने का सोच रहें हैं तो आप यहां कैसे जाएं? कब जाएं? वहां रहने व खाने पीने की क्या व्यव्स्था होगी? वहां और कौन कौन सी जगह हैं जहां आप घूम सकते हैं? और कुल खर्चा कितना आयेगा?

रामेश्वरम की यात्रा कैसे करें?
रामेश्वरम की यात्रा कैसे करें?

रामेश्वरम जाने का सबसे सही समय क्या है?

अगर आप रामेश्वरम जाने का सोच रहें हैं तो आप कोशिश करें कि आप गर्मियों के समय वहां न जाएं। जैसा की आपको पता होगा की दक्षिण भारत में गर्मियों में असहनीय गर्मी होती है। इसलिए रामेश्वरम जाने का सबसे सही समय होगा विंटर सीजन यानी नवंबर से मार्च के बीच का समय। वैसे तो आप मानसून के समय भी यहां यात्रा कर सकते हैं पर उस समय बारिश के कारण आपको और जगहों पर घूमने में बाधा हो सकती है।

रामेश्वरम कैसे पहुंचे?

रामेश्वरम पहुंचने के लिए आपके पास तीन विकल्प हैं। पहला विकल्प है बाय ट्रेन। अगर आप ट्रेन से रामेश्वरम आना चाहते हैं तो रामेश्वरम में ही रेलवे स्टेशन मौजूद है। आपको बस यह पता होना चाहिए की आपके शहर से रामेश्वरम की डायरेक्ट ट्रेन मिलेगी या नहीं।

अगर आपको अपने शहर से रामेश्वरम की ट्रेन नहीं मिलती है तो आपको पहले मदुरै रेलवे स्टेशन पर आना होगा। यहां से रामेश्वरम की दूरी लगभग 170 किलोमीटर है। इसके बाद आप अपना सफर बाय बस या बाय ट्रेन तय कर सकते हैं। अगर आपको मदुरै तक की ट्रेन भी नही मिलती है तो तब आपको चेन्नई एग्मोर रेलवे स्टेशन तक आना होगा। यहां से आपको रामेश्वरम के लिए बहुत सी ट्रैन मिल जायेगी।

आपको बता दें कि अगर आप मदुरै से रामेश्वरम तक का सफर ट्रेन से तय करते हैं तो आपको भारत के सबसे लंबे समुद्र पुल यानी पंबन ब्रिज का सुन्दर नजारा देखने को मिलेगा। आपको यह नज़ारा मिस नहीं करना चाहिए, क्योंकि यहां पर आपको बहुत आनंद आएगा।

दूसरा विकल्प है बाय रोड। अगर आप अपनी पर्सनल गाड़ी से रामेश्वरम आ रहे हैं तो आप वाया मदुरै रामेश्वरम आ सकते हैं। और तीसरा विकल्प है बाय फ्लाईट। रामेश्वरम के सबसे नजदीक मदुरै एयरपोर्ट है, तो आप यहां तक बाय फ्लाईट भी आ सकते हैं।

फ्लाईट या ट्रेन से मदुरै तक आने के बाद अगर आप बस से सफर करते हैं तो यहां पर आपको बहुत सी बस भी मिल जायेगी।
मदुरै से रामेश्वरम का बस का किराया लगभग 250-300 रुपए प्रति व्यक्ति है। साथ ही आप प्राइवेट टैक्सी भी ले सकते हैं।

रामेश्वरम पहुंच कर क्या करें?

रामेश्वरम पहुंच के आपको मंदिर के दर्शन से पहले आपको सबसे पहले अग्नि तीर्थ नमक स्थान पर स्नान करना चाहिए, जो की मंदिर परिसर से लगभग 100 मीटर की दूरी पर स्थित है। कहा जाता है कि जब श्री राम रावण का वध करके वापस आए थे तो इसी स्थान पर श्री राम ने भी स्नान किया था। यहां की लहरें श्री राम के स्पर्श से ही शांत हो गई थी।

अग्नि तीर्थ में स्नान करने के बाद जब आप मंदिर परिसर में दर्शन के लिए पहुंचेंगे तो उससे पहले वहां पर आपको एक बार फिर से यहां पर बने 22 अलग अलग तीर्थों के कुंडो में स्नान करना होगा। इन कुंडो में स्नान करने के लिए आपसे यहां पर 20-25 रुपए कॉस्ट लिया जाता है।

यहां पर आपको गवर्नमेंट एम्प्लॉय मिलेंगे जो की आपके ऊपर इन कुंडो का जल डालकर आपको स्नान करवाएंगे। इसमें आपको 30- 40 मिनट का समय लगेगा। स्नान के बाद आप मंदिर परिसर में बने चेंजिंग रूम में सूखे और साफ वस्त्र धारण कर के दर्शन के लिए आगे बड़ सकते हैं।

रामेश्वरम मंदिर परिसर में शिवजी के 2 शिवलिंग है। पहला जो हनुमान जी कैलाश पर्वत से लाए थे और दूसरा जो सीता माता के द्वारा रेत से निर्मित किया गया था। इसकी क्रम में आपको यहां पर दोनो शिवलिंग के दर्शन करने होते हैं। यहां मंदिर के अंदर आपको बहुत ही अदभुत कारीगरी देखने को मिलेंगी। रामेश्वरम मंदिर में भारत का सबसे बड़ा कॉरिडोर है जो की बहुत ही खूबसूरत है।

मंदिर परिसर में ही लगे और भी मंदिर हैं जैसे कि अंबिका माता जी का मंदिर, हनुमान जी का मंदिर, पार्वती माता का मंदिर, आदि। इन मंदिरों में जाकर भी आप दर्शन कर सकते हैं।

रामेश्वरम में रुकने की व्यवस्था क्या होगी?

रामेश्वरम में रुकने के लिए भी आपको 3 विकल्प मिलेंगे। पहला विकल्प है धर्मशाला, जो कि आपको सबसे कम किराए पर मिल जायेगा। ये धर्मशालाएं आपको मंदिर परिसर के आस पास ही आधे से 1 किलोमीटर के दायरे में मिल जाएंगी। यहां पर एक दिन का रूम का किराया 250-300 रुपए तक होता है।

दूसरा विकल्प है रामेश्वरम मंदिर ट्रस्ट के रूम्स, जिन्हे आप आने के 3 दिन पहले यहां की ऑफिशियल वेबसाइट www.tnhrce.gov.in से ऑनलाइन बुक करवा सकते हैं। यहां पर रूम का किराया लगभग 500 रूपये होता है।

तीसरा विकल्प है प्राइवेट होटल रूम। अगर आपको धर्मशाला या मंदिर के ट्रस्ट से रूम नहीं मिलता है तो रामेश्वरम में आपको बहुत से प्राइवेट होटल्स भी मिल जायेगे जिनमे रूम का किराया 500-1000 रूपये तक होता है।

रामेश्वरम में खाने पीने की व्यवस्था क्या होगी?

रामेश्वरम में आपको खाने पीने में भी 2 विकल्प मिलेंगे। पहला विकल्प तो ये है कि यहां पर मंदिर ट्रस्ट की ओर से लंगर लगाया जाता है। तो आप लंगर में जाकर भोजन ग्रहण कर सकते हैं। यहां पर खाने की टाईमिंग सुबह के 11 बजे से दिन के 3 बजे तक रहती है।

यहां पर सुबह का नाश्ता और रात का भोजन नहीं दिया जाता है। तो आपका दूसरा विकल्प है प्राईवेट होटल्स या रेस्टुरेंट। यहां पर आपको बहुत सारे होटल मिल जायेगे जिनमे खाने का कॉस्ट 100-150 रूपये तक होता है। इस प्रकार से आप यहां पर खाना पीना ले सकते हैं।

रामेश्वरम में कितने दिन स्टे ले?

अगर आप पूरी तरह से रामेश्वरम घूमना चाहते हैं तो इसके लिए 2 दिन काफ़ी होंगे। तो आपको यहां पर 2 दिन का स्टे लेना चाहिए।

रामेश्वरम में और कहां-कहां घूमना चाहिए?

अब अगर बात करें कि आपको रामेश्वरम में और कहां कहां घूमना चाहिए तो पहले स्थान पर आता है पंचमुखी हनुमान मंदिर। यहां पर आपको हनुमान जी की एक बहुत बड़ी मूर्ति देखने को मिलेगी जिसके आप दर्शन कर सकते हैं।

दूसरा स्थान है नांबू नायगी मंदिर। यह पार्वती माता का मंदिर है। कहा जाता है कि जिन्हे संतान प्राप्ति में परेशानी होती है वो इस मंदिर में अवश्य जाते हैं, जिससे उनको इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है। तो आप यहां जाकर मां पार्वती के दर्शन भी कर सकते हैं।

तीसरा स्थान है साक्षी हनुमान मंदिर। यह रामेश्वरम मंदिर परिसर से लगभग 2 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है।
अगला स्थान है सर कलाम स्मारक। यहां पर ए पी जे अब्दुल कलाम जी का स्मारक बनाया गया है। यहीं पर कलाम को उनकी मृत्यु के बाद दफनाया गया था। यहां पर भी आप जाकर उनको श्रद्धांजलि अर्पित कर सकते हैं।

अगला स्थान है धनुषकोडी। यहां पर आपको अपने स्टे के दूसरे दिन जाना चाहिए। यह रामेश्वरम से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। ये वही स्थान है जहां पर रामायण काल में वानरों के द्वारा श्रीलंका के लिए पत्थरों से पुल का निर्माण किया गया था। धनुषकोडी पहले रेलवे स्टेशन हुआ करता था लेकिन सुनामी के बाद यहां सब कुछ ध्वस्त हो गया। यहां पर भी स्नान करना पवित्र माना जाता है तो आप भी यहां जाकर स्नान जरूर करें।

रामेश्वरम में घूमने के साधन क्या होंगे?

इन सभी स्थानों में घूमने के लिए आपको मंदिर परिसर के पास स्थित अग्नि तीर्थ के पास से बस, टैक्सी या ऑटो मिल जायेंगे। अगर आप ऑटो बुक करते हैं तो आपको इसका किराया लगभग 1000-1200 रूपये पड़ेगा जिसमे आप ये सभी स्थानों पर घूम सकते हैं।

रामेश्वरम में कुल खर्चा कितना आएगा?

बात करें रामेश्वरम में रहने, खाने पीने, घूमने, आदि के कुल खर्चे की तो यहां पर आपका कुल खर्चा लगभग 1500-2000 प्रति व्यक्ति तक होगा। ध्यान रखें कि इसमें आपके बाय ट्रेन, बाय रोड या बाय फ्लाईट से आने का खर्चा नहीं जोड़ा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.