Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. भारत यात्रा
  6. /
  7. पुष्कर कैसे पहुंचे? जाने का बेस्ट समय | कुल खर्चा

पुष्कर कैसे पहुंचे? जाने का बेस्ट समय | कुल खर्चा

आज हम आपको गुजरात की ब्रह्मनगरी यानी पुष्कर शहर की यात्रा की संपूर्ण जानकारी देंगे । हम आपको बताएंगे कि आपको पुष्कर कैसे पहुंचना है, यहां पर ब्रह्मा जी के दर्शन कैसे होंगे, यहां पर रूकने तथा खाने पीने की क्या व्यवस्था होगी, पुष्कर में और दर्शनीय स्थल कौन कौन से हैं और इस यात्रा का कुल खर्चा कितना होगा। इस जानकारी से आपको अपनी पुष्कर यात्रा में सहूलियत मिलेगी।

पुष्कर आने का बेस्ट समय
पुष्कर आने का बेस्ट समय

पुष्कर कैसे पहुंचे?

बाय ट्रेन पुष्कर कैसे पहुंचे?

अगर आप पुष्कर बाय ट्रेन आ रहे हैं तो आपको बता दें कि पुष्कर में भी रेलवे स्टेशन है। पर यहां पर लॉन्ग डिस्टेंस वाली ट्रेन नहीं आती है। तो आपको सबसे पहले अजमेर रेलवे स्टेशन पहुंचना होगा। यहां से पुष्कर की दूरी लगभग 15 किलोमीटर है जो कि आप बाय ऑटो या बाय बस तय कर सकते हैं, जिसका किराया लगभग 25 से 30 रुपए प्रति व्यक्ति तक होता है। हालाकि अजमेर से पुष्कर के लिए पैसेंजर ट्रेन भी चलती है पर ये थोडा लॉन्ग डिस्टेंस कवर करती है तो आपके लिए बाय रोड वाला रूट ही सही रहेगा।

बाय रोड़ पुष्कर कैसे पहुंचे?

अजमेर से बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन से बसें चलती हैं। अपनी ट्रेन से उतरें और स्टेशन से बाहर निकलें। आपको मेन सड़क पर एक पैदल पुल दिखाई देगा। यह ओवरपास दूसरी तरफ जाता है जहां आप पुष्कर के लिए अपनी बस का इंतजार करते हैं।पुष्कर के यात्रियों की सहायता के लिए इंदौर और पुष्कर, नागदा और पुष्कर, और जयपुर और पुष्कर के बीच नियमित रूप से बसें चलती हैं।

पुष्कर जाने का बेस्ट समय और स्टे प्लान?

पुष्कर आने का बेस्ट समय अगस्त से दिसंबर तक का समय होता है यानी मानसून से विंटर तक का समय। इस समय पर आपको यहां पर ज्यादा भीड़ भाड़ देखने को नहीं मिलेगी। पर मुख्यतः 2 पर्वों पर यहां पर बहुत भीड़ होती है। पहला है होली, यहां पर होली बड़े धूम धाम से मनाई जाती है जो की काफी प्रसिद्ध है और काफी यात्री भी इसमें शामिल होते हैं।

और दूसरा है कार्तिक पूर्णिमा यानी अक्टूबर नवंबर का समय। इस समय यहां पर 7 दिन का मेला लगता है और इस अवसर पर भी यहां पर काफी भीड़ होती है। पुष्कर ज्यादातर लोग सुबह पहुंचकर यहां पर दर्शन करते हैं और शाम को वापस लौट जाते हैं क्योंकि यहां पर 1 ही दिन पर्याप्त होता है पर अगर आप यहां पर सारे मुख्य स्थानों को एक्सप्लोर करना चाहते हैं तो आपको 2 दिन का स्टे प्लान करना होगा।

पुष्कर में रहने और खाने पीने की व्यवस्था –

अगर बात करें कि आपको पुष्कर में रूम किस जगह पर लेना चाहिए तो पुष्कर में एक स्थान है बड़ी बस्ती जो की पुष्कर बस स्टैंड से 1 किलोमीटर की दूरी पर है। यहीं पर दुनिया का एकमात्र ब्रह्मा जी का मंदिर स्थित है। यहां पर रहने के लिए आपको कई होटल्स मिल जायेंगे जिनका किराया लगभग 500 से 2000 रुपए तक होता है।

साथ ही अगर आप अपनी फैमिली के साथ ट्रैवल कर रहे हैं और आपका बजट थोडा अधिक है तो आप पुष्कर विला में भी स्टे ले सकते हैं। यहां पर रहने का कॉस्ट लगभग 3000 से 3500 तक होता है। अब बात करें यहां पर खाने पीने की व्यवस्था की तो यहां पर आपको खाने में किसी प्रकार की कोई भी समस्या नही होगी। थाली सिस्टम से आपको एक समय का खाना लगभग 60 से 150 रुपए में मिल जायेगा।

पुष्कर मेला कब लगता है ?

पुष्कर मेला हर वर्ष कार्तिक शुक्ल पक्ष के एकादशी से पूर्णिमा तक रहता है। जो राजस्थान के अजमेर से 11 किलोमीटर दूर पुष्कर सरोवर के पास लगता है, तथा इस भव्य मेले में पशुओं का भी क्रय विक्रय भारी मात्रा में किया जाता है।

पुष्कर में ब्रह्मा जी के दर्शन कैसे करें?

पुष्कर में ब्रह्मा जी के दर्शन से पहले आपको मंदिर के पास में ही स्थित पुष्कर सरोवर में स्नान करना होगा। इस पुष्कर सरोवर में 52 घाट हैं जिनमे मुख्य ब्रह्म घाट हैं जिसमें आप दर्शन से पहले स्नान कर सकते हैं। इसके बाद आप दर्शन करने के लिए मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं। अगर आप पीक सीजन में जाते हैं तो आपको दर्शन करने में एक डेढ़ घंटा लग जाएगा पर वैसे यहां 15 से 20 मिनट में दर्शन हो जाते हैं।

पुष्कर में कहां-कहां घूमना चाहिए?

रंगनाथ स्वामी मंदिर –

पुष्कर में स्थित अन्य घूमने लायक स्थानों की बात करें तो सबसे पहले आता है रंगनाथ स्वामी मंदिर, यहां पर भी आप दर्शन कर सकते हैं। यह ब्रह्मा जी के मंदिर से कुछ ही दूरी पर स्थित है।

वाराह स्वामी मंदिर –

अगला स्थान है वाराह स्वामी मंदिर , जहां पर विष्णु अवतार वाराह स्वामी विराजमान हैं जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। ऐसे ही अनेक मंदिर आपको पुष्कर में मिल जायेंगे। पर कुछ मुख्य मंदिर है जहां आप जा सकते हैं।

पंचकुंड मंदिर –

अगला स्थान है पंचकुंड शिव मंदिर । यहां पर पांच पांडवों के नाम से 5 कुंड बनाए गए हैं।

सावित्री माता मंदिर –

इसकी क्रम में अगला स्थान है सावित्री माता मंदिर। यह मंदिर एक पहाड़ी पर ऊंचाई पर स्थित है जहां से आपको पूरे पुष्कर शहर का नजारा देखने को मिलेगा।

बापू बाजार –

अगर आप राजस्थान की ऑथेंटिक चीजों की शॉपिंग करना चाहते हैं तो आप कुछ समय बापू बाजार को एक्सप्लोर कर सकते हैं जो की ब्रह्म मंदिर के ठीक सामने स्थित है। यहां पर आपको अनेक हैंडलूम हैंडक्राफ्ट प्रोडक्ट्स देखने को मिलेंगे।

कैमल सफ़ारी –

अगला और अंतिम स्थान है कैमल सफ़ारी।यहां पर एक छोटा सा रेगिस्तान है और यह स्थान कैमल राइड के लिए प्रसिद्द है तो आप भी यहां पर कैमल राइड का आनंद उठा सकते हैं।

घूमने का माध्यम –

अब बात करें इन स्थानों पर घूमने के साधन की तो यहां पर आपको 2 विकल्प मिलेंगे। पहला तो ये की आप ऑटो बुक कर सकते हैं , जिसका किराया 500 से 600 रूपये तक होगा। साथ ही यदि आप अकेले या बैचलर है तो यहां पर आपको बाइक या स्कूटी रेंट पर भी मिल जायेगी जिसका किराया 300 से 400 रुपए तक होता है।

पुष्कर घुमनें का कुल खर्चा –

अगर आप पुष्कर में 2 दिन का स्टे प्लान बनाकर आते हैं और ऑफ सीजन में आते हैं तो यहां पर आपका प्रति व्यक्ति खर्चा लगभग 2000 से 2500 रुपए तक होगा। पर अगर आप ऑनसीजन में आते हैं तो आपका प्रति व्यक्ति खर्चा लगभग 3500 से 4000 तक हो जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.