Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Study
  4. /
  5. परमाणु किसे कहते हैं? | परमाणु की विशेषताएं?

परमाणु किसे कहते हैं? | परमाणु की विशेषताएं?

एक परमाणु पदार्थ का एक कण है जो विशिष्ट रूप से रासायनिक तत्व को परिभाषित करता है। एक परमाणु में एक केंद्रीय नाभिक होता है जो आमतौर पर एक या अधिक इलेक्ट्रॉनों से घिरा होता है। प्रत्येक इलेक्ट्रॉन ऋणात्मक रूप से आवेशित होता है। नाभिक धनात्मक रूप से आवेशित होता है, और इसमें एक या अधिक अपेक्षाकृत भारी कण होते हैं जिन्हें प्रोटॉन और न्यूट्रॉन के रूप में जाना जाता है।

किसी भी तत्व का वह छोटे से छोटा भाग जो रसायनिक क्रियाओं या मैं भाग लेते लेता है और उसे और तोड़ा नहीं जा सकता परमाणु कहलाता है। वैज्ञानिक सूत्र के निर्माता महर्षि कणाद ने परमाणु के बारे में छठ में छठवीं ईसवी में बता दिया था। इसके बाद ग्रीक वैज्ञानिक डेमोक्रेट्स ने बताया कि यदि हम किसी पदार्थ को तोड़ते जाएं तो एक समय पर हम एक ऐसे बिंदु पर पहुंचेंगे जहां पर उसे और तोड़ा नहीं जा सकता।

इस भौतिक इकाई को उसने परमाणु का नाम दिया। तब जॉन डाल्टन ने 1808 में परमाणु की संरचना दी और इससे संबंधित सिद्धांत प्रस्तुत किए। परमाणु को माइक्रोस्कोप से देखना संभव नहीं है। पर आजकल स्कैनिंग इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप(SEM) और इलेक्ट्रॉन टनलिंग माइक्रोस्कोप(ETM) का आविष्कार होने से परमाणु की संरचना और इसके गुणों का अध्ययन करना आसान हो गया है।

परमाणु किसे कहते हैं  परमाणु की विशेषताएं
परमाणु किसे कहते हैं परमाणु की विशेषताएं

परमाणु की विशेषताएं –

  • परमाणु मनुष्य को ज्ञात पदार्थ का सबसे छोटा भाग है। परमाणु कुल तीन कणों से बना है: प्रोटॉन, न्यूट्रॉन और इलेक्ट्रॉन। प्रोटॉन और न्यूट्रॉन नाभिक बनाते हैं, जबकि इलेक्ट्रॉन एक बादल में नाभिक के चारों ओर उड़ते हैं। इलेक्ट्रॉन ऋणात्मक होते हैं और प्रोटॉन धनात्मक होते हैं।
  • परमाणुओं को रासायनिक प्रतिक्रियाओं के माध्यम से भी बदला जा सकता है और अणु बनाने के लिए गठबंधन किया जा सकता है। अलग-अलग प्रकार और परमाणुओं की संख्या अलग-अलग तत्वों को बनाने के लिए एक साथ फिट होती है और विभिन्न प्रकार के पदार्थ बनाने के लिए अलग-अलग तरीकों से गठबंधन करती है, सभी अपनी अनूठी संख्या में प्रोटॉन, न्यूट्रॉन और इलेक्ट्रॉनों के साथ।
  • किसी तत्व के सभी परमाणु सदृश यानी समान (resembling) होते हैं, पर वे अन्य तत्व के परमाणु से भिन्न होते हैं। उदाहरण के लिए नाइट्रोजन के परमाणु सदृश होंगे जबकि वे ऑक्सीजन के परमाणु से भिन्न होंगे।
  • किसी तत्व के परमाणु उस तत्व के सभी गुणों को प्रदर्शित करता है।

परमाणु मुख्यतः 3 कणों से बना होता है:

  1. इलेक्ट्रॉन – यह ऋणात्मक विद्युत आवेश कण होता है। इलेक्ट्रॉन की खोज जे जे थॉमसन नामक वैज्ञानिक ने की थी। इलेक्ट्रॉन सभी कणों में सबसे हल्का होता है। इसका आकार व द्रव्यमान 9.11 X 10-³¹ kg होता है।
  2. प्रोटॉन – यह धनात्मक विद्युत आवेश कण होता है। प्रोटॉन की खोज अर्नेस्ट रदरफोर्ड ने 1919 में की थी। परमाणु में प्रोटोन की संख्या को परमाणु संख्या (Atomic number) कहते हैं। प्रोटोन का आकार व द्रव्यमान 1.6726 X 10-²¹kg होता है।
  3. न्यूट्रॉन – इसमें कोई भी विद्युत आवेश नहीं होता अतः यह उदासीन यानी neutral होता है। न्यूट्रॉन की खोज भौतिक वैज्ञानिक जेम्स चैडविक ने 1932 में की थी। इसका आकार और द्रव्यमान लगभग प्रोटोन के बराबर होता है 1.6929 X 10-²⁷kg.

नाभिक की संरचना –

नाभिक की अवधारणा सबसे पहले रदरफोर्ड ने 1911 में दी थी। नाभिक का व्यास लगभग 10-¹⁵m होता है। परमाणु के द्रव्यमान का लगभग 99.94% भाग न्यूक्लियस यानी नाभिक में मौजूद होता है। प्रोटोन और न्यूट्रॉन परमाणु के नाभिक यानी Nucleus में समान संख्या में मौजूद होते हैं। ये परमाणु बल के द्वारा एक दूसरे को आकर्षित करते हैं। संपूर्ण रुप से इनको न्यूक्लिऑन कहा जाता है। विद्युत चुंबकीय बल के द्वारा इलेक्ट्रॉन नाभिक में उपस्थित न्यूट्रॉन की ओर आकर्षित होते हैं। क्रियात्मक ऋणात्मक आवेश वाले इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर चक्कर लगाते रहते हैं जिसे इलेक्ट्रॉन क्लाउड कहा जाता है।

इन्हें भी पढ़ें: 

Leave a Reply

Your email address will not be published.