Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. उत्तराखंड पर्यटन
  6. /
  7. नैनीताल इतना प्रसिद्ध क्यों है?

नैनीताल इतना प्रसिद्ध क्यों है?

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में आपको बताने वाला हूँ की उत्तराखंड में स्थित नैनीताल इतना प्रसिद्ध क्यों है. इसके पीछे के कारण कौन कौन से है। जानने के लिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें। तो चलिए दोस्तों लेख को सुरु कारते है।

दोस्तों जब आप छुट्टियों के लिए किसी स्थान पर जाने सोचते हैं तो आप क्या देखते हैं? कुछ लोग कहेंगे अद्भुत प्राकृतिक दृश्य, शांत वातावरण, कुछ कह सकते हैं कि विशाल जंगल से ढके पहाड़, कुछ को सुखदायक वातावरण पसंद हो सकता है और कुछ लोग एक मनभावन जल निकाय के लिए जाते हैं। वैसे नैनीताल एक ऐसी जगह है जहां आप इनमें से हर एक चीज को पा सकते हैं। यह उत्तराखंड का एक छोटा और प्रशिद्ध शहर है जो एक पर्यटक स्थल में आपके द्वारा देखी जाने वाली हर चीज का एक आदर्श मिश्रण है। पर्यटन सुरक्षा की बात करें तो यह बहुत सुरक्षित भी है।

इन्हें भी पढ़ें:  उत्तराखंड की संस्कृति क्यों प्रसिद्ध है?
नैनीताल ( Nainital )
नैनीताल ( Nainital )

नैनीताल के प्रसिद्ध होने के कुछ कारण-

  1. नैनीताल में कुछ सबसे प्रसिद्ध चीजें हैं नैनी झील, मिस्टी इको केव गार्डन, मॉल रोड और नैना देवी मंदिर। साथ ही, शहर में खरीदारी का अनुभव बहुत अच्छा है।
  2. अपनी झीलों और सुंदर परिदृश्य के लिए प्रसिद्ध यह एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण बन गया है। कई लोग नैनीताल को हिमालय का चमकता हुआ रत्न बताते हैं। और ऐसा कहा जाता है कि हर यात्री को कम से कम एक बार प्रकृति माँ के इस प्राचीन आश्चर्य की यात्रा अवश्य करनी चाहिए।
  3. नैनीताल की संस्कृति: मोटे तौर पर अस्सी प्रतिशत आबादी हिंदू धर्म का पालन करती है, बाकी हिस्सा सिख, मुस्लिम, ईसाई, बौद्ध आदि धर्मों का है। आबादी का बड़ा हिस्सा कुमौनी परंपराओं का पालन करता है। ज्यादातर विवाह माता-पिता द्वारा कुंडली मिलान के बाद तय किए जाते हैं।
  4. नैनीताल मे स्थित नैनी झील, अद्भुत दृश्य और सुहावने मौसम के लिए प्रसिद्ध है। पर्यटकों की रुचि के कुछ अन्य स्थान मॉल हैं, जिन्हें अब गोविंद बल्लभ पंत मार्ग के नाम से जाना जाता है। आप सभी मॉल में स्थित रेस्तरां, कार्यालय और होटल पा सकते हैं।
  5. नैनीताल, को आमतौर पर ‘झील जिला‘ के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि नैनीताल समुद्र तल से लगभग 2,000 मीटर की ऊंचाई पर कुमाऊं हिमालय में उच्च स्थान पर है। ओर इसके प्रसिद्ध होने का मुख्य कारण यह स्थित नैनी झील है।
  6. नैनीताल हिमपात (बर्फबारी): नैनीताल एक उपोष्णकटिबंधीय उच्चभूमि है और यहां दो से तीन वर्षों के अंतराल पर हिमपात होता है। लेकिन जलवायु परिवर्तन के कारण अनुमान है कि नैनीताल और अन्य पड़ोसी क्षेत्रों में इस साल चार से पांच बार बर्फबारी हो सकती है।
  7. नैनीताल की पारंपरिक पोशाक: नैनीताल में महिलाओं का पारंपरिक पहनावा घाघरा-पिछौरा है। वैसे आज भी ज्यादातर महिलाएं साड़ी पहनती हैं। पिछौरा त्योहारों के मौसम में पहना जाता है। विवाहित महिलाएं हमेशा ‘सिंदूर’, मंगलसूत्र या ‘चारेउ’, ‘नाथ’ यानी नाक की अंगूठी और ‘हंसुली’ नामक सोने का हार पहनती हैं।
  8. नैनीताल का भोजन: स्थानीय व्यंजन समान रूप से रस (कई दालों से बना व्यंजन), बाडी, भट्ट की चुरकानी, आलू के गुटके (उबले हुए आलू की एक मसालेदार तैयारी, अरसा (एक मीठा व्यंजन) जैसी तैयारी के साथ मुंह में पानी ला सकते हैं। गुलगुला (एक मीठा नाश्ता) और भी बहुत कुछ।
  9. खूबसूरत है नैनीताल : मनमोहक पहाड़ी, मनोरम नदियां, चमचमाते फूल और अद्भुत बर्फ सभी एक ही जगह। नैनीताल प्रकृति की देन है। गर्मियों में सदाबहार पेड़ और रंग-बिरंगे फूल तो लाजवाब होते हैं, लेकिन साथ ही आप सर्दियों में बर्फ की चादर ओढ़ने से नहीं चूक सकते।
  10. नैनी झील – नैनीताल की जीवन रेखा
  11. नैनी चोटी – नैनीताल की सबसे ऊँची चोटी
  12. स्नो व्यू पॉइंट – सबसे पुराना व्यूपॉइंट
  13. नैनीताल चिड़ियाघर – पं. गोविंद बल्लभ पंत चिड़ियाघर
  14. राजभवन – राज्यपाल का घर
  15. नैना देवी मंदिर – नैनीताल में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर जिसे नैना देवी के नाम से जाना जाता है।
  16. भीमताल झील – एक शांत झील
  17. सत्तल – झीलें, चीड़ और पहाड़ियाँ
  18. ज्योलिकोट – नैनी झील का प्रवेश द्वार
  19. हिमालयन व्यू पॉइंट – साक्षी द मैजेस्टिक हिमालय
  20. खुर्पा ताल – मछली पकड़ने में लिप्त
  21. जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क – जंगल के बीच रिट्रीट
  22. कांची बांध – आपका आशीर्वाद मांगें
  23. नौकुचिया ताल – प्रकृति की गोद में
  24. सरियाताल – पूर्ण शांत और शांति के लिए
  25. पंगोट और किलबरी पक्षी अभयारण्य – एक पक्षी देखने वालों का स्वर्ग
  26. कॉर्बेट फॉल्स – जंगली में एक सुंदरता

इन्हें भी पढ़ें: केदारनाथ मंदिर प्रसिद्ध क्यों है, केदारनाथ मंदिर का इतिहास और महत्व?

One thought on “नैनीताल इतना प्रसिद्ध क्यों है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.