Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. उत्तराखंड पर्यटन
  6. /
  7. मसूरी कहाँ स्थित है? । मसूरी क्यों प्रसिद्ध है?

मसूरी कहाँ स्थित है? । मसूरी क्यों प्रसिद्ध है?

मसूरी उत्तर भारत में उत्तराखंड राज्य में स्थित एक हिल स्टेशन है। यह समुद्र तल से 2,000 मीटर (6,500 फीट) की ऊंचाई पर हिमालय पर्वत श्रृंखला में स्थित है। मसूरी अपनी ठंडी और सुखद जलवायु के लिए जाना जाता है, जो इसे विशेष रूप से गर्मियों के महीनों के दौरान एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बनाता है। यह हिमालय पर्वत श्रृंखला और दून घाटी के सुंदर दृश्यों के लिए भी जाना जाता है। मसूरी में कई पर्यटक आकर्षण हैं, जिनमें केम्प्टी फॉल्स, गन हिल और मॉल रोड शामिल हैं। यह साहसिक खेलों जैसे पैराग्लाइडिंग, रॉक क्लाइम्बिंग और ट्रेकिंग के लिए भी एक लोकप्रिय गंतव्य है।

मसूरी
मसूरी

मसूरी की ऊंचाई और तापमान?

मसूरी समुद्र तल से 2,000 मीटर (6,500 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। मसूरी में तापमान मौसम के आधार पर बदलता रहता है। गर्मियों के महीनों (अप्रैल से जून) के दौरान, तापमान अधिकतम 28°C (82°F) से लेकर न्यूनतम 15°C (59°F) तक होता है। मानसून के मौसम (जुलाई से सितंबर) में तापमान अधिकतम 25°C (77°F) से लेकर न्यूनतम 15°C (59°F) तक रहता है। सर्दियों के महीनों (अक्टूबर से मार्च) के दौरान, मसूरी में तापमान लगभग 15 डिग्री सेल्सियस (59 डिग्री फारेनहाइट) के अधिकतम तापमान के साथ 0 डिग्री सेल्सियस (32 डिग्री फारेनहाइट) या उससे कम हो सकता है। मसूरी में जलवायु आमतौर पर ठंडी और सुखद होती है, जो इसे साल भर एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बनाती है।

मसूरी क्यों प्रसिद्ध है?

मसूरी उत्तरी भारतीय राज्य उत्तराखंड में स्थित एक हिल स्टेशन है। यह गढ़वाल क्षेत्र में स्थित है और समुद्र तल से 2,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। मसूरी अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है, और अक्सर इसे “पहाड़ियों की रानी” कहा जाता है। यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, विशेष रूप से गर्मियों के महीनों के दौरान, जब मौसम आसपास के मैदानों की तुलना में ठंडा होता है।

शहर ओक, देवदार और देवदार के जंगलों से ढकी पहाड़ियों से घिरा हुआ है, और कई दर्शनीय स्थल और दृश्य हैं जहाँ पर्यटक आश्चर्यजनक दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। मसूरी कई ऐतिहासिक और सांस्कृतिक आकर्षणों का भी घर है, जिनमें मसूरी झील, केम्प्टी फॉल्स और ज्वालाजी मंदिर शामिल हैं।

मसूरी  की स्थापना कब और किसने की थी?

मसूरी की स्थापना 19वीं शताब्दी की शुरुआत में ब्रिटिश सेना के लेफ्टिनेंट फ्रेडरिक यंग ने की थी। शहर का नाम मंसूर के नाम पर रखा गया था, जिसके बारे में कहा जाता है कि उसने इस क्षेत्र में एक छोटी झोपड़ी बनाई थी। मसूरी जल्द ही अंग्रेजों के लिए एक लोकप्रिय हिल स्टेशन बन गया और वहां कई औपनिवेशिक शैली के बंगले बनाए गए। यह शहर सीखने और संस्कृति का केंद्र भी था, जहां कई प्रतिष्ठित स्कूल और कॉलेज स्थापित किए गए थे।

1947 में भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद भी मसूरी एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बना रहा। अब यह हर साल हजारों पर्यटकों द्वारा दौरा किया जाता है, जो इसकी ठंडी जलवायु, प्राकृतिक सुंदरता और सांस्कृतिक आकर्षणों का आनंद लेने के लिए आते हैं। मसूरी साहसिक खेलों जैसे ट्रेकिंग, रॉक क्लाइम्बिंग और पैराग्लाइडिंग का भी एक प्रमुख केंद्र है।

मसूरी में बर्फ कब पड़ती है?

मसूरी में आमतौर पर दिसंबर और जनवरी में पहली बर्फबारी होती है, हालांकि सटीक समय साल-दर-साल अलग-अलग हो सकता है। यह शहर समुद्र तल से 2,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, इसलिए सर्दियों के महीनों में यह काफी ठंडा हो सकता है, तापमान कभी-कभी हिमांक से नीचे चला जाता है। हिमपात आमतौर पर कुछ दिनों तक रहता है, और कभी-कभी यह काफी भारी हो सकता है।

पर्यटक अक्सर सर्दियों के महीनों के दौरान बर्फ का आनंद लेने और स्कीइंग और स्नोबोर्डिंग जैसे शीतकालीन खेलों में भाग लेने के लिए मसूरी आते हैं। हालांकि, यदि आप सर्दियों के मौसम में मसूरी की यात्रा की योजना बना रहे हैं तो ठंड और गीले मौसम के लिए तैयार रहना महत्वपूर्ण है। आरामदायक और सुरक्षित रहने के लिए गर्म कपड़े, वाटरप्रूफ गियर और मजबूत जूते लाने की सिफारिश की जाती है।

सड़क मार्ग से मसूरी कैसे पहुंचे?

भारत के कई प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग द्वारा मसूरी पहुंचा जा सकता है। यह शहर भारत की राजधानी दिल्ली से लगभग 270 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, और कार द्वारा लगभग 8 घंटे में पहुंचा जा सकता है। कार द्वारा मसूरी पहुँचने के लिए आप यहाँ की मुख्य सड़कों का अनुसरण कर सकते हैं:

  • दिल्ली से: NH44 राजमार्ग लें और देहरादून शहर तक पहुँचने तक इसका अनुसरण करें। वहां से, मसूरी रोड लें और मसूरी पहुंचने तक जारी रखें।
  • देहरादून से: मसूरी रोड लें, जो शहर के केंद्र में शुरू होता है और मसूरी तक जाता है। यात्रा में कार द्वारा लगभग एक घंटा लगता है।
  • हरिद्वार से: ऋषिकेश शहर पहुँचने तक NH34 राजमार्ग लें। वहां से, मसूरी पहुंचने तक मसूरी रोड का पालन करें।

इन शहरों से मसूरी के लिए नियमित बस सेवाएं भी उपलब्ध हैं। आप इन शहरों के मुख्य बस स्टेशनों से बस पकड़ सकते हैं और सड़क मार्ग से मसूरी की यात्रा कर सकते हैं। यात्रा में दिल्ली से लगभग 8 घंटे, देहरादून से 1 घंटा और हरिद्वार से 2 घंटे लगते हैं।

ट्रेन से मसूरी कैसे पहुंचे?

भारत के कई प्रमुख शहरों से ट्रेन द्वारा मसूरी पहुँचा जा सकता है। मसूरी का निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून है, जो शहर से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। देहरादून रेल द्वारा भारत के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और दिल्ली, मुंबई और कोलकाता जैसे शहरों से नियमित ट्रेनें हैं। देहरादून से आप मसूरी के लिए टैक्सी या बस पकड़ सकते हैं। यात्रा में कार या बस से लगभग एक घंटा लगता है।

वैकल्पिक रूप से, आप हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर उतर सकते हैं, जो मसूरी से लगभग 90 किलोमीटर दूर है। हरिद्वार से, आप मसूरी पहुंचने के लिए बस ले सकते हैं या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। सड़क मार्ग से यात्रा में लगभग 2-3 घंटे लगते हैं। अपने ट्रेन टिकटों को पहले से बुक करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि देहरादून और हरिद्वार की ट्रेनों में काफी भीड़ हो सकती है, खासकर पीक टूरिस्ट सीजन के दौरान।

हवाई जहाज से मसूरी कैसे पहुंचे?

मसूरी का निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो मसूरी से लगभग 35 किलोमीटर दूर देहरादून शहर में स्थित है। जॉली ग्रांट हवाई अड्डा भारत के प्रमुख शहरों जैसे दिल्ली, मुंबई और कोलकाता से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, जहाँ विभिन्न एयरलाइनों द्वारा नियमित उड़ानें संचालित की जाती हैं। हवाई अड्डे से, आप मसूरी पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या बस पकड़ सकते हैं। सड़क मार्ग से यात्रा में लगभग एक घंटा लगता है।

वैकल्पिक रूप से, आप दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए उड़ान भर सकते हैं, जो मसूरी का निकटतम प्रमुख हवाई अड्डा है। दिल्ली से, आप मसूरी पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या बस पकड़ सकते हैं, जो लगभग 270 किलोमीटर दूर है। सड़क मार्ग से यात्रा में लगभग 8 घंटे लगते हैं।

अपने फ्लाइट टिकटों को पहले से बुक करने की सिफारिश की जाती है, क्योंकि मौसम और मांग के आधार पर कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव हो सकता है।

बाइक और कार से मसूरी कैसे पहुंचे?

भारत के कई प्रमुख शहरों से बाइक या कार से मसूरी पहुंचा जा सकता है। यह शहर भारत की राजधानी दिल्ली से लगभग 270 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, और कार द्वारा लगभग 8 घंटे में पहुंचा जा सकता है। बाइक या कार से मसूरी पहुंचने के लिए आप यहां मुख्य मार्ग अपना सकते हैं:

  • दिल्ली से: NH44 राजमार्ग पकड़ें और देहरादून शहर तक पहुँचने तक इसका अनुसरण करें। वहां से, मसूरी रोड लें और मसूरी पहुंचने तक जारी रखें।
  • देहरादून से: मसूरी रोड पकड़ें, जो शहर के केंद्र में शुरू होता है और मसूरी तक जाता है। यात्रा में कार द्वारा लगभग एक घंटा लगता है।
  • हरिद्वार से: ऋषिकेश शहर पहुँचने तक NH34 राजमार्ग लें। वहां से, मसूरी पहुंचने तक मसूरी रोड का पालन करें।

यह अनुशंसा की जाती है कि आप अपने मार्ग की योजना पहले से बना लें और सुनिश्चित करें कि आपके पास अपना रास्ता खोजने में मदद करने के लिए एक विश्वसनीय गूगल मेप या GPS नेविगेशन प्रणाली है। किसी भी खराबी या आपात स्थिति के मामले में एक अतिरिक्त टायर, कुछ बुनियादी उपकरण और अन्य आवश्यक सामान ले जाना भी एक अच्छा विचार है।

मसूरी में घूमने के प्रमुख स्थान?

मसूरी एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता और कई आकर्षणों के लिए जाना जाता है। मसूरी में घूमने के लिए कुछ प्रमुख स्थान इस प्रकार हैं:

  • केम्प्टी फॉल्स: शहर से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित केम्प्टी फॉल्स एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। झरने पहाड़ियों से घिरी एक खूबसूरत घाटी में स्थित हैं, और आराम करने और ठंडे पानी में डुबकी लगाने के लिए एक शानदार जगह हैं।
  • मसूरी झील: शहर के बाहरी इलाके में स्थित यह कृत्रिम झील नौका विहार और पिकनिक के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। पास में एक छोटा सा बगीचा है, जो इत्मीनान से सैर करने के लिए एक बेहतरीन जगह है।
  • धनोल्टी: मसूरी से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित धनोल्टी एक छोटा हिल स्टेशन है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। यह शहर घने जंगलों से घिरा हुआ है और हिमालय की चोटियों के शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है।
  • भट्टा जलप्रपात: शहर से लगभग 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, भट्टा जलप्रपात पिकनिक और दिन की यात्राओं के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। झरना एक सुंदर घाटी में स्थित है, और नीचे एक छोटा सा तालाब है जहाँ आगंतुक डुबकी लगा सकते हैं।
  • ज्वालाजी मंदिर: शहर से लगभग 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ज्वालाजी मंदिर हिंदुओं के लिए एक लोकप्रिय पूजा स्थल है। मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है और सुंदर बगीचों से घिरा हुआ है।
  • कंपनी गार्डन: शहर के मध्य में स्थित, कंपनी गार्डन पिकनिक और इत्मीनान से सैर के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। उद्यान ओक और देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है, और हिमालय की चोटियों के शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है।
  • गन हिल: शहर से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, गन हिल मसूरी की दूसरी सबसे ऊँची चोटी है। पहाड़ी आसपास की पहाड़ियों और घाटियों के आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करती है, और फोटोग्राफी के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।

मसूरी में और उसके आसपास घूमने के लिए कई अन्य स्थान हैं, जिनमें संग्रहालय, ऐतिहासिक स्थल और सांस्कृतिक आकर्षण शामिल हैं।

मसूरी में रहने की क्या ब्यवस्था है?

मसूरी एक लोकप्रिय हिल स्टेशन और पर्यटन स्थल है, और शहर में रहने के लिए विभिन्न व्यवस्थाएँ उपलब्ध हैं। यहाँ कुछ विकल्प दिए गए हैं:

  • होटल: मसूरी में अलग-अलग बजट और पसंद के हिसाब से होटल और गेस्ट हाउस हैं। आप शहर के केंद्र के साथ-साथ आसपास के क्षेत्रों में आवास पा सकते हैं।
  • होमस्टे: मसूरी में कई होमस्टे उपलब्ध हैं, जो अधिक व्यक्तिगत और स्थानीय अनुभव प्रदान करते हैं। होमस्टे आमतौर पर स्थानीय परिवारों द्वारा चलाए जाते हैं और कई प्रकार की सुविधाएं और सेवाएं प्रदान करते हैं।
  • किराये के अपार्टमेंट: आप लंबे समय तक रहने के लिए मसूरी में एक अपार्टमेंट भी किराए पर ले सकते हैं। शहर में कई किराये की संपत्तियां उपलब्ध हैं, जिनमें स्टूडियो से लेकर बड़े अपार्टमेंट शामिल हैं।
  • रिसॉर्ट्स: मसूरी में और उसके आसपास कई रिसॉर्ट स्थित हैं, जो कई प्रकार की सुविधाएं और गतिविधियां प्रदान करते हैं। यदि आप अधिक शानदार और लाड़ प्यार करने वाले अनुभव की तलाश में हैं तो रिसॉर्ट्स एक अच्छा विकल्प हैं।

अपने आवास को अग्रिम रूप से बुक करने की सिफारिश की जाती है, विशेष रूप से पीक टूरिस्ट सीज़न के दौरान, क्योंकि कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव हो सकता है और उपलब्धता सीमित हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.