श्रीशैलम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग कैसे पहुचें?
x

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग कैसे पहुचें?

जय हिंद दोस्तों कैसे हैं आप सब? आज हम दक्षिण भारत के कैलाश यानी कि श्रीशैलम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग की बात करेंगे जिसमें हम यह जानेंगे कि हमको श्रीशैलम कैसे पहुचना है? श्रीशैलम में कहां रुकना है? निशुल्क भोजन प्रसाद कहां मिलेगा? श्रीशैलम में कहां-कहां घूमना है और अंत में यह भी जानेंगे कि श्रीशैलम ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने के लिए हमारा खर्चा कितना लग जाएगा?

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग कैसे पहुचें?
x
श्रीशैलम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग कैसे पहुचें?

मेरे इस लेख में एक-एक करके सारी बातों को विस्तार पूर्वक समझते हैं जिससे आपको श्रीशैलम ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने के कोई परेशानी न हो। श्रीशैलम ज्योतिर्लिंग के लिए सबसे पहले बात करते हैं कि हम कैसे पहुंचे आपके पास तीन ऑप्शन है। सारी बातों को एक एक करके समझते हैं?

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन कैसे पहुंचे?

बाय ट्रेन श्रीशैलम मल्लिकार्जुन कैसे –

अगर आप बाई ट्रेन मल्लिकार्जुन आना चाहते हैं तो वहां पर आपको नजदीकी रेलवे स्टेशन मारकापुर रोड पहुंचना है मारकापुर रेलवे स्टेशन से श्रीशैलम मल्लिकार्जुन की दूरी 90 किलोमीटर है तो आप जिस भी शहर से आ रहे हैं तो आप को सबसे पहले मारकापुर रेलवे स्टेशन आना है फिर वहां से आप 90 किलोमीटर मल्लिकार्जुन भाई बस या प्राइवेट गाड़ी किसी भी माध्यम से पहुंच सकते हैं।

यहां पर अगर बस की बात करें तो बस कि यहां पर ऑनलाइन बुकिंग भी होती है आप इस वेबसाइट www.apsrtconline.in पर जाकर जो कि आंध्र प्रदेश सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट है। इस पर जाकर आप अपनी बस की सीट बुक कर सकते हैं। बस का जो किराया होता है वह आपका ₹160 प्रति व्यक्ति का बस का किराया आपका 90 किलोमीटर का लगेगा अपनी सुविधा के लिए आप पहले ही बस का टिकट ऑनलाइन बुक करवा लें ताकि आपको आगे चलकर किसी परेशानी का सामना न करना पड़े।

अगर आपको मारकापुर रोड तक डायरेक्ट ट्रेन नहीं मिलती है तो आप नजदीकी रेलवे स्टेशन कुरनूल सिटी भी ट्रेन तक से आ सकते हैं। कुरनूल रेलवे स्टेशन से श्रीशैलम मल्लिकार्जुन की दूरी 180 किलोमीटर है। कन्नूर रेलवे स्टेशन से 8 किलोमीटर आगे चलकर वहां पर बस स्टॉप आता है। जहां पर ऑटो वाला आपको रेलवे स्टेशन से ₹20 में छोड़ देगा। यहां पर जो बस की बुकिंग होती है। यहां पर भी आपको ऑनलाइन इस वेबसाइट www.apsrtconline.in से बस की सीट पहले ही बुक लेनी है। जो यह 180 किलोमीटर का सफर है। इसको बस से तय करने में आप का 6 से 7 घंटा लग जाएगा और अगर मारकापुर रेलवे स्टेशन से आप बस से सफर करते हैं तो आपका 3 घंटे में सफर तय हो जाएगा।

पहुंचे हवाई यात्रा से श्रीशैलम मल्लिकार्जुन कैसे –

दुसरे माध्यम के बाट करूं तो वह है फ्लाइट से। अगर आप बाय फ्लाइट आना चाहते हैं तो आपको नियरेस्ट एयरपोर्ट हैदराबाद में आना होगा और हैदराबाद पहुंचते ही आपको बस से फिर आगे की यात्रा करनी होगी। यहां एयरपोर्ट से श्रीशैलम की दूरी 260 किलोमीटर है जो कि बस से 10 से11 घंटे में आप श्रीशैलम पहुंच जाएंगे।

पहुंचे बाय रोड श्रीशैलम मल्लिकार्जुन कैसे पहुंचे –

हैदराबाद बेसिकली वही यात्री आते हैं जो साउथ इंडिया से आ रहे हैं अगर आप साउथ से आ रहे हैं तो आपके लिए कुरनूल रेलवे स्टेशन और मारकापुर रेलवे स्टेशन बेस्ट ऑप्शन है। अगर आप बस से सफर करना चाहते हैं तो आपके लिए हैदराबाद और सिकंदराबाद बेस्ट ऑप्शन हैं। यहां से आपको श्रीशैलम मल्लिकार्जुन के लिए डायरेक्ट बस मिल जाएगी।

यहां से जो श्रीशैलम मल्लिकार्जुन की दूरी है वह 230 किलोमीटर है। हैदराबाद से श्रीशैलम तक बस का किराया एक व्यक्ति का ₹400 टिकट है और इसकी भी अनलाइन बुकिंग होती है वह आंध्र प्रदेश की ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन की इसी www.apsrtconline.in वेबसाइट से होती है और साथ ही साथ आप तेलंगाना स्टेट ट्रांसपोर्ट की बस भी बुक कर सकते हैं।

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन में कहां रुके?

यहां पर आपके पास रुकने के लिए दो ऑप्शन है ।पहला है श्री शैलम देवस्थानम बोर्ड की तरफ से आपको रूम दिया जाता है और मंदिर परिसर के आसपास आपको श्री शैलम देवस्थानम बोर्ड के गेस्ट हाउस देखने को मिलेंगे वहां पर जाकर आप रुक सकते हैं। AC और नॉन AC दोनों टाइप के रूम आपको यहां पर मिल जाएंगे। जो भी रूम आप लेना चाहते हैं वह आपको मिल जाएगा। जो यह जितने भी सदन के गेस्ट हाउस हैं इनकी बुकिंग ऑनलाइन होती है। ऑनलाइन बुकिंग कैसे होती है यह आपकी वेबसाइट www.srisailadevasthanam.org है। इस वेबसाइट पर जाकर आपको ऑनलाइन अपना रूम बुक करवा लेना है।

अब हम यहां पर रूम की कॉस्ट के बात करें तो जो नॉन एसी रूम है वह आपको ₹300 पर डे के हिसाब से आपको चार्ज किया जाएगा और ऐसी रूम का आपको हजार रुपए चार्ज लिया जाएगा इसका जो चेकिंग और चेक आउट टाइम होता है वह रात को 8:00 बजे से लेकर सुबह के 8:00 बजे तक होता है।

दूसरा ऑप्शन है आपके पास होटल। वहां पर आंध्र प्रदेश टूरिज्म की होटल बनी हुई है। वहां पर भी आप जाकर स्टे कर सकते हैं। अगर कॉस्ट की बात की जाए तो यहां पर आपको ₹700 से लेकर 1200 रुपए पर डे के हिसाब से आपको चार्ज किया जाएगा। तो अगर आप सदन के गेस्ट हाउस में नहीं रुकना चाहते हैं तो आप बाहर होटल में जाकर भी रुक सकते हैं।

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन के दर्शन किस प्रकार होंगे?

दर्शन करने से पहले हमको कुछ और भी चीजें जानी जरूरी होती हैं उसके बाद ही हम दर्शन के लिए आगे बढ़ेंगे दर्शन करने से पहले सबसे पहली चीजों है कि आपको वहां पर एक एक्सेस कर लेना पड़ेगा एक्सेस कार्ड यानी कि एक तरफ से यात्रा परची है। तो आप यात्रा पड़ती परची निकलवा लीजिए यात्रा परची आपको मंदिर के गेट के सामने ही मिल जाएगी।

यहां पर एक्सेस कार्ड भी दो टाइप का मिलता है एक तो वह अगर आप दर्शन के लिए फ्री पास लेते हैं तो आपको लाइन में लगना पड़ेगा उस लाइन में आपको जितना भी समय लगेगा आपको रुकना पड़ेगा और दूसरा मिलता है आपको यहां पर शीघ्र पास दर्शन जिसको हम भी आई पी पास कह सकते हैं जिसका कॉस्ट ₹150 होता है अगर आप वीआईपी पास लेते हैं तो आपको आधा से 1 घंटे में दर्शन हो जाएंगे तो आप ऊपर दी गई वेबसाइट में जाकर ऑनलाइन भी आओ पास निकलवा सकते हैं।

दूसरी बात यह कि आपको मंदिर परिसर में मोबाइल कैमरा बैग ले जाना अलाउड नहीं है जहां पर आप दर्शन के लिए पास लेंगे वहीं पर आपको बगल में मोबाइल और बैग रखने के लिए या कैमरा रखने के लिए आपको लॉकर मिल जाएगा। जूते चप्पल भी आप यहां पर रख सकते हैं। उस लॉकर का टोकन आपको दिया जाएगा और दर्शन करने के बाद वापस आते समय आपको व टोकन वहां पर जमा करके अपना सामान वापस फिर से ले लेना है।

दर्शन की लाइन में चलते-चलते आप नंदी स्वामी का दर्शन कीजिए और आगे बढ़ते हुए हम मंदिर के गर्भ गृह में पहुंचते हैं जहां पर श्रीशैलम मल्लिकार्जुन लिंग का हम दर्शन करते हैं और दर्शन करते हुए बाहर आ जाते हैं।

श्रीशैलम जाने का बेस्ट समय कौन सा रहेगा?

श्रीशैलम जाने के लिए सबसे बेस्ट समय होता है विंटर (सर्दियों) का। इस समय यानी कि अक्टूबर से लेकर फरवरी तक का समय यहां पर जाने के लिए सबसे उचित रहेगा क्योंकि यहां पर उस समय ज्यादा भीड़ भाड़ नहीं होती है तो आप आराम से मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। इसके अलावा आप अगर सावन के महीने में या महाशिवरात्रि के पर्व पर यहां पर आते हैं तो आपको बहुत ज्यादा मात्रा में भीड़ यहां पर देखने को मिलेगी।

श्रीशैलम में हमें कितने दिन का स्टे करना चाहिए?

यहां पर स्टे करने के लिए 2 दिन बहुत हैं क्योंकि यहां पर श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर के अलावा और भी कुछ छोटे-छोटे मंदिर हैं जहां पर आप घूम सकते हैं। तो उसके लिए आपको एक दिन एक्स्ट्रा वहां पर रुकना पड़ेगा। तो 2 दिन यहां के लिए पर्याप्त हैं। श्रीशैलम में खाने पीने की क्या व्यवस्था होगी हालांकि यहां पर आपके पास ढेर सारे ऑप्शन तो नहीं है खाने पीने के क्योंकि जो श्रीशैलम है वह एक पर्वत पर बना हुआ है फिर भी आपको यहां पर दो ऑप्शन मिल जाते हैं खाने के लिए पहला जो ऑप्शन है वह है श्री शैलम देवस्थानम बोर्ड की तरफ से भोजन यहां पर मुफ्त में करवाया जाता है। श्रीशैलम मंदिर के बगल में ठीक वहां पर एक बना हुआ है अन्नप्रसाद ।

वहां पर जाकर आप भी भोजन कर सकते हैं वहां पर सुबह का नाश्ता दिन का खाना और रात का खाना तीनो टाइम यहां पर खाना भक्तों को दिया जाता है यहां पर जो दिन के खाने की टाइमिंग है वह है 11:00 बजे से लेकर 2:00 बजे तक और जो शाम के खाने की टाइमिंग है वह है 6:00 बजे से लेकर 9:00 बजे तक तो अगर आप मंदिर ट्रस्ट की तरफ से फ्री में भोजन करना चाहते हैं तो आप यहां पर भोजन कर सकते हैं। दूसरा ऑप्शन है आपके पास प्राइवेट होटल या रेस्टोरेंट्स यहां पर जाकर भी आप अपना भोजन कर सकते हैं जो कि आपको 80 से ₹100 प्रति थाली खाने की मिल जाएगी।

आपको यहां पर दर्शन के बाद प्रसाद भी मिल जाता है तो आप घर के लिए काउंटर से वहां पर लाडू प्रसाद भी ले सकते हैं। जिसका आपको ₹5 या ₹10 या ₹15 के हिसाब से वहां पर दिया जाता है तो आप वहां पर प्रसाद ले सकते हैं।

मल्लिकार्जुन में घुमने के अन्य स्थान?

श्री मल्लिकार्जुन के बाद आपको दूसरे जो सबसे पहला घूमने का स्थान है वह है –

पातालगंगा –

वहां पर घाट बना हुआ है कृष्णा नदी के पास तो हम को वहां जाना है और कृष्णा नदी में डुबकी लगानी है और स्नान करना है पातालगंगा कैसे पहुंचेंगे इसकी बात करते हैं। दोस्तों मंदिर परिसर से 1 किलोमीटर की दूरी पर आपको पातालगंगा का सीडी मिलेगा जो आपको घाट तक ले कर जाएगा। यहां पर घाट पर जाने के लिए आपके पास दो ऑप्शन है। पहला ऑप्शन तो यह है कि आप शिडी के माध्यम से चले जाइए 650 शिडी हैं तो इन शिडीयों के माध्यम से आप घाट पर जा सकते हैं।

दूसरा ऑप्शन है आपके पास रोपवे का । वहां पर रोपवे बना हुआ है ₹65 प्रति व्यक्ति के हिसाब से इस रोपवे का चार्ज लगता है। तो वहां पर कृष्णा नदी में आप स्नान करिए और कुछ समय वहां पर व्यतीत करने के बाद वापस आ जाइए। अगर आप वोटिंग के शौकीन हैं तो कृष्णा नदी में आप वहां पर वोटिंग भी कर सकते हैं जहां पर नदी में एक डैम बना हुआ है तो आप वहां भी देख सकते हैं बोट वाला आपसे ₹50 लेगा और डैम के दर्शन करा कर आपको वापस घाट पर छोड़ देगा। दूसरा स्थान है आपका घूमने के लिए साक्षी गणपति मंदिर।

साक्षी गणपति मंदिर –

श्रीशैलम मंदिर परिसर से 1 किलोमीटर की दूरी पर बना हुआ है। साक्षी गणपति मंदिर अगर आप यहां पर दर्शन नहीं करते हैं तो श्रीशैलम मल्लिकार्जुन के दर्शन आप के अधूरे माने जाते हैं ऐसा कहना है लोगों का। तो आप यहां पर जरूर दर्शन कीजिए अगला स्थान है किंतु लक्ष्मी म्यूजियम।

चेंचू लक्ष्मी म्यूजियम –

एक तरफ से एक म्यूजियम या संग्रहालय जिसे हम कहते हैं वह है जहां पर स्वदेशी जनजातियों की जीवन का एक झलक आपको देखने को मिलेगी। इसमें भी आपको काफी चीजें देखने को मिलेंगे। इसकी दूरी श्रीशैलम मंदिर परिसर से 1 किलोमीटर दूर स्थित है। अगला स्थान है हटकेश्वर मंदिर।

हटकेश्वर मंदिर –

हटकेश्वर मंदिर में शिव जी की प्रतिमा है। यहां पर आप दर्शन करिए यह वही मंदिर है शिव जी ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था तो आप यहां पर शिव के दर्शन कर सकते हैं।अगला स्थान है पाल धारा पंचधारा।

पाल धारा पंचधारा –

नाम से ही आपको समझ आ रहा होगा यहां पर एक बहुत बड़ा वाटरफॉल है यह वाटरफॉल आगे चलकर कृष्णा नदी में ही मिल जाता है। यहां पर आपको पहले 160 सीढ़ी चढ़कर पहले ऊपर जाना पड़ेगा। यहां पर आपको एक सुंदर नजारा मिलेगा जहां पर आप फोटोशूट भी कर सकते हैं अगर आप फोटोशूट में इंटरेस्ट रखते हैं तो। यह श्रीशैलम मंदिर परिसर से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

अब हम बात करते हैं आखिरी स्थान की जो मंदिर परिसर में ही पड़ता है जिसका नाम है भ्रामराम्बा जी का मंदिर

भ्रामराम्बा जी का मंदिर –

इस मंदिर में माता सती की यहां पर गर्दन गिरी थी 51 शक्ति पीठ में 1 शक्तिपीठ यह भी है। श्रीशैलम मल्लिकार्जुन मंदिर के पीछे भ्रामराम्बा जी का मंदिर मिलेगा तो आप यहां पर भी जरूर दर्शन कीजिए और माताजी के दर्शन कीजिए।

इन सारी जगहों को घूमने के लिए हमारा माध्यम क्या होगा?

मंदिर परिसर के आसपास आपको ढेर सारी ऑटो वाले वहां पर मिल जाएंगे जिनसे आप अन्य स्थानों पर आराम से जा सकते हैं। ऑटोवाला आपसे 150 से 200 रुपये प्रति व्यक्ति का लेता है और इन सभी जगहों पर आपको वापस जिसमें 1 से 2 घंटे का समय लग जाएगा।

श्रीशैलम मल्लिकार्जुन यात्रा का कुल खर्चा कितना आएगा?

अगर आप 2 दिन जहां पर स्टे करते हैंऔर श्री शैलम देवस्थानम बोर्ड के गेस्ट हाउस में रुकते हैं और अन्नप्रसाद में भोजन करते हैं तो आप का 2 दिन का प्रति व्यक्ति 1500 से ₹2000 खर्चा आ जाएगा। इस खर्चे में आपका यहां पहुंचने तक बस टिकट का, ट्रेन टिकट का या फ्लाइट टिकट का नहीं जुड़ा हुआ है। यह सिर्फ और सिर्फ मंदिर परिसर में पहुंचने के बाद 2 दिन का आपका यहां पर का खर्चा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.