चोपता कैसे पहुँचें?
x

चोपता कैसे पहुँचें? । how to reach tungnath

चोपता तुंगनाथ (तृतीय केदार) या मिनी स्विट्जरलैंड चोपता के बारे में पूरी जानकारी –

चोपता मिनी स्विट्जरलैंड जिसे आमतौर पर उत्तराखंड का मिनी स्विट्ज़रलैंड के नाम से भी जाना जाता है। चोपता तुंगनाथ देवभूमि उत्तराखण्ड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित एक छोटा सा टुरिस्ट प्लेस है। चोपता को ‘उत्तराखण्ड का मिनी स्विट्जरलैंड’ के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन जब आप गूगल मैप पर देखेंगे तो रुद्रप्रयाग जिले में दो चोपता देखने को मिलेंगे।

लेकिन आपको गूगल मैप पर लिखना होगा “चोपता तुंगनाथ” तभी आप सही चोपता की लोकेशन पे पहुँच पाएंगे। चोपता समुद्र तल से 8556 फ़ीट की ऊँचाई पर स्थित, एक बहुत खूबसूरत हिल स्टेशन है। चोपता में आपको दुनिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर देखने को मिलेगा यह मंदिर तुंगनाथ के नाम से बहुत प्रसिद्ध है।

चोपता कैसे पहुँचें?
x
चोपता कैसे पहुँचें?

दुर्गाधार चोपता – दूसरा जो चोपता है वह रुद्रप्रयाग से 24 किलोमीटर की दूरी पर पोखरी रोड पर स्थित है। यह एक छोटा सा गांव का मार्केट है। यहां पर भी एक फेमस दुर्गा का मंदिर है आप चाहे तो वहां पर भी घूमने जा सकते हैं। चोपता से किलोमीटर आगे जाकर कनकचोरी मार्केट पड़ता है वहां से आप कार्तिक स्वामी मंदिर के लिए जा सकते हैं और कार्तिक स्वामी के दर्शन भी आप इसी रूट पर कर सकते हैं।

दुर्गाधार चोपता रूद्रप्रयाग
x
दुर्गाधार चोपता रूद्रप्रयाग

चोपता उन लोगों के लिए भी एक शानदार स्थान है जो कम आबादी वाले स्थान पसंद करते हैं। आप चोपता किसी भी महीने में जाएं आपको चोपता में हर महीने में एक अलग ही और बहुत शानदार अनुभव होगा। चोपता ट्रैकिंग, हाइकिंग, पिकनिक, इन सभी एडवेंचर के शौकीन लोगों के लिए यह जगह किसी स्वर्ग से कम नहीं है। चोपता सबसे ज्यादा तुंगनाथ मन्दिर और चंद्रशिला ट्रेक के लिए प्रसिद्ध है। इस ट्रेक के दौरान आप पंचचुली, नंदा देवी, केदारनाथ और त्रिशूल की राजसी चोटियों को देख सकते हैं।

अगर आप यहां सुंदर बर्फ की चादर देखना चाहते हैं तो आप दिसंबर जनवरी या फरवरी के बीच में चोपता जा सकते हो। लेकिन अगर आप मार्च से अप्रैल के बीच में जाते हैं तो चोपता की खूबसूरती कही गुना बढ़ जाती है। क्योंकि इस टाइम वादियां और भी हरी-भरी और बहुत सुंदर हो जाती है। सर्दियों में यहां 4 से 5 फीट तक बर्फ गिर जाती है।

मिनी स्विट्जरलैंड चोपता जाने से पहले यहां के बारे में कुछ जानकारियां?

  • सबसे पहले तो अगर आप यहां पर नाइट स्टे के लिए जा रहे हैं तो आप अपने पास मोबाइल चार्ज करने के लिए पावर बैंक जरूर रखें क्योंकि यहां पर लाइट की समस्या है क्योंकि यहां पर अभी तक बिजली नहीं पहुंची है। यहां पर सोलर प्लेट द्वारा ही रात को होटलों में लाइट की व्यवस्था की जाती है।
  • दूसरी बात अगर आप सर्दियों के समय में यहां पर बाइक से जा रहे हैं तो आप सेफ्टी ग्लव्स, हेलमेट और पैरों के घुटनों पर नी गार्ड जरूर पहने क्योंकि यहां पर सर्दियों में सड़क पर बर्फ की चादर जमी रहती है इसमें फिसलने के बहुत ज्यादा मात्रा में संभावना रहती है तो इसलिए आप सावधानीपूर्वक और राइडिंग किट के साथ यहां पर राइड करें।
  • तीसरी बात सर्दियों में खासकर दिसंबर जनवरी-फरवरी के महीनों में यहां पर काफी मात्रा में ठंड और बर्फबारी होती है तो आप गर्म कपड़े जरूर लाए या पहन के आए जिससे कि आपको ठंड का सामना न करना पड़े।
  • चौथी बात यहां पर सर्दियों में ज्यादा स्पीड में गाड़ी चलाना खतरे से खाली नहीं है इसलिए आप गाड़ी धीमी रफ्तार में ही यहां पर चलाएंगे जहां से आपको खाली रोड मिल जाएगी वहां से आप थोड़ा ज्यादा गति से चल सकते हैं।
  • थर्टी फर्स्ट के अवसर पर यहां पर काफी मात्रा में पर्यटक आते हैं और थर्टी फर्स्ट का एंजॉयमेंट बड़ी धूमधाम से करते हैं। इस समय यहां होटल खचाखच भरे रहते हैं इसलिए अगर आप भी थर्टी फर्स्ट पर यहां आना चाहते हैं तो आने से पहले आप ऑनलाइन भी रूम बुक कर सकते हैं।
  • अगर संभव हो तो साथ में 1 कैम्पिंग टेंट भी जरूर लाएं ताकि रूम न मिलने पर आप कहीं पर टेंट लगाके रह सकते हैं।

चोपता कैसे पहुंचें? । how to reach chopta

सड़क मार्ग से चोपता कैसे पहुंचें? (By Road) –

मिनी स्विट्जरलैंड चोपता, उत्तराखंड 246171″ – चोपता जाने के लिए आपको सबसे पहले ऋषिकेश या हरिद्वार पहुँचना होगा। यहां से आपको चोपता मिनी स्विट्जरलैंड के लिए कार या बस मिल जायेगी। आप चाहें तो यहाँ से गाड़ी बुक करके भी आ सकते हैं। ऋषिकेश से चोपता की दूरी 209 किलोमीटर है और हरिद्वार से चोपता की दूरी 231 किलोमीटर है, जोकि राष्ट्रीय राजमार्ग NH 7 से होकर जाता है।

ट्रेन से चोपता कैसे पहुंचें? ( By Train ) –

चोपता मिनी स्विट्जरलैंड का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश और हरिद्वार में स्थित है यहां पहुँचने के बाद आप टैक्सी या बस की मदद से चोपता पहुँच सकते हैं।

हवाई मार्ग से चोपता कैसे पहुंचें? ( By Air ) –

चोपता के लिए कोई हवाई अड्डा नहीं है, लेकिन अगर आप हवाई मार्ग से आना चाहते हो तो आप केवल देहरादून जोलीग्रान्ट एयरपोर्ट आ सकते हो चोपता के सबसे पास हवाई अड्डा देहरादून में है। देहरादून से आप गाड़ी या बस की मदद से चोपता बहुत आसानी से पहुँच सकते हो। आप चाहें तो ऋषिकेश से बाइक या स्कूटी रेंट पर भी ले सकते हैं। जोलीग्रान्ट से चोपता मिनी स्विट्जरलैंड की दूरी 223 जोकि राष्ट्रीय राजमार्ग NH 7 से होकर जाता है किलोमीटर की है।

चोपता क्यों प्रसिद्ध है? । why is chopta famous

सबसे पहले चोपता उत्तराखंड के मिनी स्विट्ज़रलैंड के लिए प्रसिद्ध है। दूसरा चोपता दुनिया में सबसे ऊंचे शिव मंदिर यानि की तृतीय केदार तुंगनाथ के लिए प्रसिद्ध है। तीसरा यह चोपता तुंगनाथ और चंद्रशिला पीक ट्रेक के लिए प्रसिद्ध है। चोपता अपनी विश्व विख्यात प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। चोपता वन्यजीव अभयारण्य के लिए प्रसिद्ध है। चोपता ट्रेकिंग के लिए प्रसिद्ध है। चोपता सर्दियों के समय बर्फ से ढके पहाड़ों के लिए प्रसिद्ध है। चोपता बर्फबारी (Snowfall) के लिए के लिए प्रसिद्ध है।

चोपता मिनी स्विट्जरलैंड रूट मेप? । chopta tungnath route map

चोपता मिनी स्विट्जरलैंड के लिए यहाँ से यात्रा शुरू करें – हरिद्वार » ऋषिकेश » शिवपुरी » ब्यासी » कौड़ियाला » तीनधारा » देवप्रयाग » बागवान » मलेथा » कीर्तिनगर » श्रीनगर » रूद्रप्रयाग » तिलवारा » अगस्तमुनि » चंद्रापुरी » भीरी » काकड़ागाड़ » कुंड » ऊखीमठ » चोपता मिनी स्विट्जरलैंड

चोपता तुंगनाथ की दूरी?। Distance to Chopta Tungnath

  • दिल्ली से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 454 किलोमीटर
  • हरिद्वार से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 233 किलोमीटर
  • ऋषिकेश से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 209 किलोमीटर
  • देहरादून से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 246 किलोमीटर
  • नैनीताल से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 268 किलोमीटर
  • रानीखेत से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 210 किलोमीटर
  • जोलीग्रान्ट एयरपोर्ट से चोपता तुंगनाथ (मिनी स्विट्जरलैंड) की दूरी – 223 किलोमीटर

चोपता जाने का सबसे अच्छा समय कौन सा है? । Best time to visit Chopta

अगर आप बर्फबारी का आनंद लेना चाहते हैं तो आप दिसंबर से मार्च तक यहां पर बर्फबारी का लुफ्त उठा सकते हैं। दिसंबर और जनवरी के महीने में यहां पर भारी मात्रा में बर्फबारी होती है जिस का लुफ्त उठाने के लिए पर्यटक यहां पर काफी मात्रा में आते हैं। खासकर 31 दिसंबर यानी कि नव वर्ष पर यहां पर चकाचक होटल फूल भरे रहते हैं।

चोपता जाने का सबसे अच्छा समय कौन सा है_
x
चोपता जाने का सबसे अच्छा समय कौन सा है_

नव वर्ष पर यहां पर बहुत ही ज्यादा मात्रा में पर्यटक आते हैं और नव वर्ष के जश्न के साथ-साथ सुंदर बर्फबारी और तुंगनाथ चंद्रशिला ट्रक का आनंद उठाते हैं इसलिए आप सर्दियों में आना चाहते हैं तो आ सकते हैं।

अगर आप सर्दियों में नहीं आना चाहते हैं तो आप मई-जून के महीने में भी यहां पर आ सकते हैं। इस दौरान आपको यहां पर सुंदर हरी-भरी घास के मैदान दिखाई देंगे और साथ ही तुंगनाथ मंदिर जोकी तृतीय केदार है, के दर्शन भी आप कर सकते हैं। और मंदिर से 2 किलोमीटर ऊपर चंद्रशिला पीक भी आप आनंद उठा सकते हैं और यहां से आपको नंदा देवी पर्वत हिमालय पर्वत और चौखंभा हिमालय की चोटियां भी चंद्रशिला से आपको दिखाई देंगी।

चंद्रशिला तुंगनाथ
x
चंद्रशिला तुंगनाथ

चोपता में बर्फबारी कब होती है? । chopta tungnath snowfall

चोपता में दिसंबर से मार्च तक बर्फबारी होती है। खासकर की दिसंबर और जनवरी में यहां पर भारी मात्रा में बर्फबारी होती है। थर्टी फर्स्ट के अवसर पर यहां पर काफी मात्रा में पर्यटक आते हैं और थर्टी फर्स्ट का एंजॉयमेंट बड़ी धूमधाम से करते हैं। इस समय यहां होटल खचाखच भरे रहते हैं इसलिए अगर आप भी थर्टी फर्स्ट पर यहां आना चाहते हैं तो आने से पहले आप ऑनलाइन भी रूम बुक कर सकते हैं।

चोपता तुंगनाथ का तापमान? । chopta tungnath temperature

चोपता का तापमान 12 महीने ही ठंडा रहता है, आपको यहां पर कभी भी गर्मी का एहसास नहीं होगा। चोपता में मार्च से मई के दौरान यहां का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। और सर्दियों के समय यहां काफी बर्फबारी होती है जिस वजह से यहाँ का तापमान 5 डिग्री सेल्सियस से -10 डिग्री (रात के समय) तक भी चला जाता है। आप चोपता किसी भी मौसम में आएंगे तो अपने साथ में गर्म कपडे जरूर रखें।

ऋषिकेश से चोपता कैसे जाएं? । rishikesh se chopta kaise jaye

मिनी स्विट्जरलैंड चोपता, उत्तराखंड 246171″ – चोपता जाने के लिए आपको सबसे पहले ऋषिकेश पहुँचना होगा। यहां से आपको चोपता मिनी स्विट्जरलैंड के लिए कार या बस मिल जायेगी। आप चाहें तो से गाड़ी बुक करके भी आ सकते हैं। ऋषिकेश से चोपता की दूरी 209 किलोमीटर है, जोकि ये ऋषिकेश से रूद्रप्रयाग तक राष्ट्रीय राजमार्ग NH 7 से होकर गुजरता है और रूद्रप्रयाग से आगे ये राष्ट्रीय राजमार्ग 107 से होकर गुजरता है।

हरिद्वार से चोपता कैसे जाएं? । haridwar se chopta kaise jayen

मिनी स्विट्जरलैंड चोपता, उत्तराखंड 246171″ – चोपता जाने के लिए आपको सबसे पहले हरिद्वार पहुँचना होगा। यहां से आपको चोपता मिनी स्विट्जरलैंड के लिए कार या बस मिल जायेगी। आप चाहें तो से गाड़ी बुक करके भी आ सकते हैं। हरिद्वार से चोपता की दूरी 231 किलोमीटर और ऋषिकेश से चोपता की दूरी 209 किलोमीटर है। जोकि ये ऋषिकेश से रूद्रप्रयाग तक राष्ट्रीय राजमार्ग NH 7 से होकर गुजरता है और रूद्रप्रयाग से आगे ये राष्ट्रीय राजमार्ग 107 से होकर गुजरता है।

देहरादून से चोपता कैसे जाएं? । dehradun se chopta kaise jayen

मिनी स्विट्जरलैंड चोपता, उत्तराखंड 246171″ – चोपता जाने के लिए आपको देहरादून से ऋषिकेश होते हुए जाना होता है। आप चाहें तो देहरादून से भी डाइरेक्ट गाड़ी या बस के माध्यम से आ सकते हैं। देहरादून चुनाभट्टा से आपको रूद्रप्रयाग के लिए बस मिल जाएगी। आप चाहें तो गाड़ी बुक करके भी आ सकते हैं। देहरादून से चोपता की दूरी 246 किलोमीटर है।

दिल्ली से चोपता कैसे जाएं? । delhi se chopta kaise jayen

दिल्ली से सबसे पहले आप हरिद्वार या ऋषिकेश आ जाइए। आप हरिद्वार या ऋषिकेश तक दिल्ली से ट्रेन में भी आ सकते हैं। और बस या गाड़ी से भी आ सकते हैं। दिल्ली से हरिद्वार की दूरी 220 किलोमीटर है और दिल्ली से ऋषिकेश की दूरी 241 किलोमीटर है जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग 334 से होकर गुजरता है।

दिल्ली से चोपता कैसे जाएं?
x
दिल्ली से चोपता कैसे जाएं?

इसके बाद ऋषिकेश से आगे की यात्रा आपको गाड़ी या बस से ही करनी होगी क्योंकि यहां से आगे न तो ट्रेन है और ना ही हवाई यात्रा से आप सफर कर सकते हैं तो आप ऋषिकेश से या तो बस में आ सकते हैं यहां वहां से कोई गाड़िया प्राइवेट कार बुक करके आ सकते हैं। आप चाहे तो ऋषिकेश में बाइक भी रेंट पर ले सकते हैं और बाइक से आ सकते हैं। ऋषिकेश से चोपता तुंगनाथ की दूरी 209 किलोमीटर है कुल मिलाकर दिल्ली से चोपता तुंगनाथ की दूरी 454 किलोमीटर है।

उत्तराखंड का मिनी स्विट्जरलैंड किसे कहा जाता है?

चोपता को ‘उत्तराखण्ड का मिनी स्विट्जरलैंड’ के नाम से भी जाना जाता है।

दिल्ली से चोपता की दूरी कितने किलोमीटर है?

दिल्ली से चोपता तुंगनाथ की दूरी 454 किलोमीटर है।

चोपता में बर्फ कब गिरती है?

दिसंबर और जनवरी में यहां पर भारी मात्रा में बर्फबारी होती है।

चोपता क्यों प्रसिद्ध है?

सबसे पहले चोपता उत्तराखंड के मिनी स्विट्ज़रलैंड के लिए प्रसिद्ध है। दूसरा चोपता दुनिया में सबसे ऊंचे शिव मंदिर यानि की तृतीय केदार तुंगनाथ के लिए प्रसिद्ध है। तीसरा यह चोपता……

भारत का मिनी स्विट्जरलैंड किसे कहा जाता है?

चोपता (Chopta Tungnath) को ‘भारत का मिनी स्विट्जरलैंड’ के नाम से भी जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.