Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. यात्रा गाइड
  6. /
  7. हरिद्वार कैसे पहुंचे? | ट्रेन | रोड | बेस्ट समय | गंगा आरती | कुम्भ मेला

हरिद्वार कैसे पहुंचे? | ट्रेन | रोड | बेस्ट समय | गंगा आरती | कुम्भ मेला

नमस्कार दोस्तों कैसे हैं? आज हम बात करेंगे उत्तराखंड की पावन नगरी हरि के द्वार के बारे में यानी कि “हरिद्वार” के बारे में। दोस्तों, आज के इस लेख में मैं आपको बताने वाला हूं कि आप हरिद्वार किस प्रकार जाएं? यहां पर रहने व खाने की क्या-क्या व्यवस्था होगी? और यहां पर आप किन किन जगहों पर घूम सकते हैं? यह संपूर्ण जानकारी आज मैं इस लेख में आपको देने वाला हूं।

हरिद्वार कैसे पहुंचे? | ट्रेन | रोड | बेस्ट समय | गंगा आरती | कुम्भ मेला
हरिद्वार क्यों प्रसिद्ध है?

उत्तराखंड की यात्रा में हरिद्वार का क्या महत्व है?

हरिद्वार का अर्थ है – हर अर्थात् शिव (केदारनाथ) तथा हरि अर्थात् विष्णु (बद्रीनाथ) तक जाने का द्वार। इस प्रकार इसे हरद्वार या हरिद्वार के नाम से जाना जाता है। जिसको उत्तराखंड की चारधाम यात्रा के लिए प्रवेश द्वार के रूप में जाना जाता है। उत्तराखंड के चार धाम है – बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री।
इसलिए भगवान शिव के अनुयायी और भगवान विष्णु के अनुयायी इसे क्रमशः हरद्वार तथा हरिद्वार के नाम से पुकारते अथवा जानते हैं । हर अर्थात् शिव (केदारनाथ) और हरि अर्थात् विष्णु (बद्रीनाथ) तक जाने का द्वार।

हरिद्वार जाने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

वेसे तो आप हरिद्वार साल भर में कभी भी जा सकते हैं क्योंकि यहां 12 महीने लोग आते जाते रहते हैं. फिर भी अगर मौसम की सहूलियत को देखा जाए तो यहां पर बारिश और गर्मियों में आप नाहीं जाएं तो बेहतर होगा। क्योंकि इस समय यहां खूब भीड़ रहती है. अगर आप भीड़ से बचना चाहते हैं, तो आपको सितंबर से दिसम्बर तक और फरवरी से मई तक जाना उचित रहेगा।

हरिद्वार कैसे पहुंचे?

हरिद्वार पहुँचने के लिए आपके पास तीन प्रकार के माध्यम है। जो निम्न प्रकार से हैं –

हरिद्वार ट्रेन के माध्यम से कैसे पहुंचे?

सबसे पहले ऑप्शन कि हम बात करेंगे तो जो है ट्रेन। तो दोस्तों आपको बता दें कि हरिद्वार में ही रेलवे स्टेशन मौजूद है। आप कहीं से भी हरिद्वार तक ट्रेन में आ जा सकते हैं। आप जिस भी शहर में रहते हैं वहां से हरिद्वार के लिए डायरेक्ट ट्रेन देख लीजिए और उस ट्रेन के माध्यम से आप हरिद्वार पहुंच जाइए।

अगर दोस्तों, अब किस शहर से हरिद्वार के लिए डायरेक्ट ट्रेन नहीं मिल रही है तो आप या तो दिल्ली या सहारनपुर तक ट्रेन ले सकते हैं जरूरी नहीं है कि हरिद्वार तक आपको कोई डायरेक्ट ट्रेन मिल जाए क्योंकि हरिद्वार के लिए कम ही ट्रेन है जो आपके शहर से डायरेक्ट हरिद्वार तक आप पाएं।

हरिद्वार हवाई जहाज के माध्यम से कैसे पहुंचे?

दोस्तों दूसरा ऑप्शन है बाय एयर अगर आप हवाई यात्रा द्वारा हरिद्वार आ रहे हैं तो आपका नजदीकी एयरपोर्ट है देहरादून जौली ग्रांट एयरपोर्ट। आप यहां जौली ग्रांट एयरपोर्ट पहुंच जाइए यहां से आप हरिद्वार बाय बस या बाइक कार किसी भी माध्यम से हरिद्वार पहुंच सकते हैं। जौली ग्रांट एयरपोर्ट से हरिद्वार की दूरी 40 किलोमीटर है जो आप किसी भी प्रकार से तय कर सकते हैं। चाहे वह कोई प्राइवेट कार हो या बस हो या कोई अन्य हो आप इन माध्यमों से बड़े ही आसानी से हरिद्वार हर की नगरी में पहुंच सकते हैं।

हरिद्वार रोड के माध्यम से कैसे पहुंच सकते हैं?

दोस्तों, अब हम बात करेंगे बाइक कार या बाय बाइक तो अगर आप बाइक आर्या बाय बाइक आ रहे हैं तो आप डायरेक्ट कहीं से भी हरिद्वार पहुंच सकते हैं। दोस्तों अगर आप बाय रोड आ रहे हैं तो दिल्ली से आपको हर एक आधे घंटे में बस वहां से हरिद्वार के लिए मिल जाएगी और हरिद्वार पहुंचने के बाद आपको वहां पर हर की पौड़ी में पार्किंग मिल जाएगी। अगर कारणवश वहां पर नहीं मिल पाती है तो चंडी घाट के पास वहां पर बहुत बड़ा पार्किंग स्पेस बनाया गया है जहां पर आप अपनी गाड़ी पार्क कर सकते हैं।

हरिद्वार क्यों प्रसिद्ध है?

‘हरिद्वार’ हिन्दू धर्म के अनुयायियों का प्रसिद्ध प्राचीन तीर्थ स्थान है। यहाँ पहाड़ियों से निकल कर भागीरथी गंगा पहली बार मैदानी क्षेत्र में आती हैं। गंगा के उत्तरी भाग में बसे हुए ‘बदरीनारायण’ तथा ‘केदारनाथ’ नामक भगवान विष्णु और शिव के प्रसिद्ध तीर्थों के लिये इसी स्थान से मार्ग जाता है।

इसीलिए इसे ‘हरिद्वार‘ तथा ‘हरद्वार’ दोनों ही नामों से जाना जाता है। हरिद्वार का प्राचीन पौराणिक नाम ‘मायापुरी’ है, जिसकी सप्त मोक्षदायिनी पुरियों में गणना की जाती थी। हरिद्वार का एक भाग आज भी ‘मायापुरी’ नाम से प्रसिद्ध है। महाभारत में हरिद्वार को ‘गंगाद्वार’ कहा गया है।

हरिद्वार में पार्किंग की ब्यवस्था –

दोस्तों, अगर यहां पर पार्किंग चार्ज की बात करें तो जो आपका फोर व्हीलर होता है उसके लिए आपको 100 रुपये 24 घंटे के लिए चार्ज देना होता है और टू व्हीलर के लिए आपको 50 रुपये 24 घंटे के लिए देना होता है।

दोस्तों, हरिद्वार पहुंचते ही सबसे पहले आपको जाना होता है हर की पौड़ी। दोस्तों यहां पर आप जहां पर भी अपनी गाड़ी पार्क कर रहे हैं वहां से आपको लोकल ई रिक्शा मिल जाएंगे जो कि दूरी के हिसाब से ₹10 रुपये ₹20 रुपये और ₹30 रुपये प्रति व्यक्ति चार्ज कर सकते हैं। जो यहां पर रेलवे स्टेशन में है वहां से हर की पौड़ी की दूरी 3 किलोमीटर है जो कि प्रति व्यक्ति ₹30 रुपये ई रिक्शा चालक आपसे लेगा तो आप इस माध्यम से हर की पौड़ी पहुंच सकते हैं।

हर की पैड़ी हरिद्वार में गंगा आरती –

दोस्तों गंगा तट पर सबसे फेमस नजारा है हर की पैड़ी हरिद्वार का। दोस्तों, यहां पर जो साँय काल में गंगा आरती होती है उसका अद्भुत होता है। यहां पर गंगा आरती में लाखों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहते हैं। दोस्तों हर की पौड़ी हरिद्वार में ही कुंभ का आयोजन किया जाता है यहां पर कुंभ मेले में लाखों की तादाद में श्रद्धालु मौजूद रहते हैं।

हर की पैड़ी में पहुंचते ही जूते चप्पल कहाँ रखें?

दोस्तों, जैसे ही आप हर की पौड़ी में पहुंचते हैं यहां पर आपको कई सारे जूते चप्पल रखने के काउंटर मिल जाएंगे। आप यहां पर अपने जूते चप्पल रखने के बाद गंगा नदी में स्नान करने के लिए जा सकते हैं। लेकिन स्नान करते समय आपको इस बात का विशेष ध्यान रखना है कि आप नदी में ज्यादा अंदर न जाएं खास करके तब, जब आपको तैरना नहीं आता। अगर आपको तैरना नहीं आता है तो आप रेलिंग से सटकर ही वहां पर स्नान करें।

हर की पौड़ी में गंगा आरती का समय क्या रहता है?

हर की पौड़ी में गंगा आरती दो टाइम होती है एक तो सुबह के 6:00 बजे और दूसरा शाम को 6:00 बजे। दोस्तों तो आप अपने टाइम के हिसाब से यहां पर पहुंच जाइए और ब्रहम घाट चले जाइए दोस्तों ब्रहम घाट हर की पौड़ी को ही कहा जाता है। यहां पर गंगा आरती का काफी अद्भुत नजारा होता है जैसे कि वाराणसी में होता है सेम उसी प्रकार का ही अद्भुत नजारा आपको यहां पर भी देखने को मिलेगा ।

हर की पौड़ी में गंगा आरती
हर की पौड़ी में गंगा आरती

आप गंगा आरती में सम्मिलित होना चाहते हैं तो आप यहां पर आरती से डेढ़ घंटे पहले पहुंच जाइए क्योंकि आरती को सामने से देखने के लिए यहां पर काफी संख्या में लोग पहले से ही पहुंच जाते हैं तो आप जल्दी आइए और आरती का दृश्य देखिए नहीं तो आपको देरी से आने में पीछे से ही देखने को मिल पाएगा।

हरिद्वार में कहां रुके?

दोस्तों, अब हम बात करते हैं कि हरिद्वार में कहां रुके हैं? दोस्तों यहां पर रुकने के दो ऑप्शन हैं। पहला ऑप्शन है कि अगर आप कम बजट में यहां पर रुकना चाहते हैं तो आप धर्मशाला या किसी आश्रम में रुक सकते हैं जहां पर आपको 200 से 300 रुपये 24 घंटे के लिए चार्ज आप से लिया जाएगा और अगर आप बाहर रहना चाहते हैं तो आप किसी प्राइवेट होटल में रुक सकते हैं जहां पर आपको 500 से 700 रुपए तक आप को चार्ज किया जाता है।

दोस्तों, अब हम बात करते हैं कि आश्रम या होटल आपको किस जगह पर लेना है? दोस्तों जैसे ही आप रेलवे स्टेशन पहुंच जाएंगे तो यहां से आधा किलोमीटर की दूरी पर पड़ता है शिवपुरा। शिवपुरा में काफी सारे धर्मशाला, आश्रम तथा होटल आपको यहां पर रहने के लिए मिल जाते हैं या फिर अगर आप यहां पर नहीं रुकना चाहते तो आप हर की पौड़ी चले जाइए यहां पर भी आपको ढेर सारे होटल आश्रम और धर्मशाला आपको रहने के लिए मिल जाते हैं तो आप वहां भी रुक सकते हैं।

हर की पौड़ी में धार्मिक स्थल –

हर की पौड़ी –

यह स्थान भारत के सबसे पवित्र घाटों में एक है। कहा जाता है कि यह घाट विक्रमादित्य ने अपने भाई भतृहरि की याद में बनवाया था। इस घाट को ‘ब्रह्मकुण्ड’ के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो गंगा में नहाने को ही मोक्ष देने वाला माना जाता है लेकिन किवदन्ती है कि हर की पौडी में स्नान करने से जन्म जन्म के पाप धुल जाते हैं।

शाम के वक़्त यहाँ महाआरती आयोजित की जाती है। गंगा नदी में बहते असंख्य सुनहरे दीपों की आभा यहाँ बेहद आकर्षक लगती है। हरिद्वार की सबसे अनोखी चीज़ है शाम होने वाली गंगा की आरती। हर शाम हज़ारों दीपकों के साथ गंगा की आरती की जाती है। पानी में दिखाई देती दीयों की रोशनी हज़ारों टिमटिमाते तारों की तरह लगती है। हरिद्वार में बहुत सारे मंदिर और आश्रम हैं।

चंडी देवी मंदिर-

गंगा नदी के दूसरी ओर नील पर्वत पर यह मंदिर बना हुआ है। यह मंदिर कश्मीर के राजा सुचेत सिंह द्वारा 1929 ई. में बनवाया गया था। कहा जाता है कि आदिशंकराचार्य ने आठवीं शताब्दी में चंडी देवी की मूल प्रतिमा यहाँ स्थापित करवाई थी। किवदंतियों के अनुसार चंडी देवी ने शुंभ निशुंभ के सेनापति चंद और मुंड को यहीं मारा था। चंडीघाट से 3 किलोमीटर की ट्रैकिंग के बाद यहाँ पहुंचा जा सकता है। अब इस मंदिर के लिए भी रोप वे भी बना दिया गया है।

माया देवी मंदिर –

माया देवी मंदिर भारत के प्रमुख शक्तिपीठों में एक है। कहा जाता है कि शिव की पत्नी सती का हृदय और नाभि यहीं गिरा था। माया देवी को हरिद्वार की अधिष्ठात्री देवी माना जाता है, जिसका इतिहास 11 शताब्दी से उपलब्ध है। मंदिर के बगल में ‘आनंद भैरव का मंदिर’ भी है। पर्व-त्योहारों के समय बड़ी संख्या में श्रद्धालु माया देवी मंदिर के दर्शन करने को पहुंचते हैं।

दक्ष महादेव मंदिर –

यह प्राचीन मंदिर नगर के दक्षिण में स्थित है। सती के पिता राजा दक्ष की याद में यह मंदिर बनवाया गया है। किवदंतियों के अनुसार सती के पिता राजा दक्ष ने यहाँ एक विशाल यज्ञ का आयोजन किया था। यज्ञ में उन्होंने शिव को नहीं आमन्त्रित किया। अपने पति का अपमान देख सती ने यज्ञ कुण्ड में आत्मदाह कर लिया। इससे शिव के अनुयायी गण उत्तेजित हो गए और दक्ष को मार डाला। बाद में शिव ने उन्हें पुनर्जीवित कर दिया।

सप्तऋषि आश्रम –

इस आश्रम के सामने गंगा नदी सात धाराओं में बहती है इसलिए इस स्थान को सप्त सागर भी कहा जाता है। माना जाता है कि जब गंगा नदी बहती हुई आ रही थीं तो यहाँ सात ऋषि गहन तपस्या में लीन थे। गंगा ने उनकी तपस्या में विघ्न नहीं डाला और स्वयं को सात हिस्सों में विभाजित कर अपना मार्ग बदल लिया। इसलिए इसे ‘सप्‍त सागर’ भी कहा जाता है।

मनसा देवी का मंदिर –

हर की पौडी के पीछे के बलवा पर्वत की चोटी पर मनसा देवी का मंदिर बना है। मंदिर तक जाने के लिए पैदल रास्ता है। मंदिर जाने के लिए रोप वे भी है। पहाड़ की चोटी से हरिद्वार का ख़ूबसूरत नज़ारा देखा जा सकता है। देवी मनसा देवी की एक प्रतिमा के तीन मुख और पांच भुजाएं हैं जबकि अन्य प्रतिमा की आठ भुजाएं हैं।

हरिद्वार में कुम्भ मेले का आयोजन कब होता है?

हरिद्वार चार स्थानों में से एक है; जहां हर छह साल बाद अर्ध कुंभ और हर बारह वर्ष बाद कुंभ मेला होता है। ऐसा कहा जाता है कि अमृत की बुँदे हर की पैड़ी के ब्रम्हकुंड में गिरती हैं इसलिए माना जाता है कि इस विशेष दिन में ब्रहमकुंड में किया स्नान बहुत शुभ है |

प्राचीनतम जीवित शहरों में से एक होने के नाते, हरिद्वार प्राचीन हिंदू शास्त्रों में भी अपना उल्लेख पाता है जिसका समय बुद्ध से लेकर हाल ही के ब्रिटिश आगमन तक फैलता है। कहा जाता है कि महान राजा भगीरथ गंगा नदी को अपने पूर्वजों को मुक्ति प्रदान करने के लिए स्वर्ग से पृथ्वी तक लाये है। यह भी कहा जाता है कि हरिद्वार को तीन देवताओं ने अपनी उपस्थिति से पवित्र किया है ब्रह्मा, विष्णु और महेश |

कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने हर की पैड़ी के ऊपरी दीवार में पत्थर पर अपना पैर प्रिंट किया है, जहां पवित्र गंगा हर समय उसे छूती है। भक्तों का मानना है कि वे हरिद्वार में पवित्र गंगा में एक डुबकी लगाने के बाद स्वर्ग में जा सकते हैं।

हरिद्वार कला, विज्ञान और संस्कृति को सीखने के लिए विश्व के आकर्षण का केन्द्र भी बनता हैं। हरिद्वार की आयुर्वेदिक दवाओं और हर्बल उपचारों के साथ ही अपनी अनूठी गुरुकुल विद्यालय, प्राकृतिक सुंदरता और हरियाली के लिए भी एक आकर्षण का केन्द्र है।

हरिद्वार में कौन से भगवान है?

हरिद्वार को तीन देवताओं ने अपनी उपस्थिति से पवित्र किया है ब्रह्मा, विष्णु और महेश | कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने हर की पैड़ी के ऊपरी दीवार में पत्थर पर अपना पैर प्रिंट किया है, जहां पवित्र गंगा हर समय उसे छूती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.