Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. Tour & travel
  4. /
  5. भारत यात्रा
  6. /
  7. गंगटोक कब जाये? | गंगटोक में घुमनें के प्रमुख स्थान

गंगटोक कब जाये? | गंगटोक में घुमनें के प्रमुख स्थान

आज के इस लेख मैं हम जानेंगे कि हमे गंगटोक जो कि सिक्किम की राजधानी है, को कैसे एक्सप्लोर करना है, ताकि आपको यहां जाने में सहूलियत हो। आपको यह जानकरी मिलेगी कि आपको गंगटोक कैसे जाना है, कब जाना है, वहां घूमने के लिऐ और कौन कौन से स्थान है, वहां रहने और खाने पीने की क्या व्यवस्था होगी और इन सब चीजों में कुल खर्चा कितना आयेगा।

गंगटोक कब जाये?
गंगटोक कब जाये?

गंगटोक कैसे पहुंचे?

ट्रेन से गंगटोक कैसे जाए?

गंगटोक पहुंचने के बाद आपके पास दो माध्यम हैं। पहला तो बाय ट्रेन। अगर आप ट्रेन से सफर करते हैं तो यहां पर सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन। यहां से गंगटोक की दूरी लगभग 120 किलो मीटर है जो कि आप तीन माध्यम से तय कर सकते हैं।

पहला विकल्प है कि आप यहां से टैक्सी बुक करके गंगटोक पहुंच सकते हैं और इसका कॉस्ट आपको लगभग 3500 से 4000 रुपए तक पड़ेगा। दूसरा विकल्प है शेयरिंग टैक्सी जो की प्रति व्यक्ति 350 रुपए तक चार्ज करती है। तीसरा विकल्प है बस, जो कि आपको रेलवे स्टेशन के 3 किलो मीटर पास स्थित सिलिगुड़ी बस स्टैंड से मिल जायेगी। इसका किराया लगभग 90 रुपए प्रति व्यक्ति होगा और आप लगभग 5 से 6 घण्टे में गंगटोक पहुंच जायेंगे।

बाय फ्लाईट गंगटोक कैसे पहुचें?

दूसरा माध्यम है कि आप अगर बाय फ्लाईट गंगटोक आते हैं तो यहां पर सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है बागडोगरा एयरपोर्ट। यहां से गंगटोक की दूरी लगभग 125 किलोमीटर है। ये दूरी तय करने के लिए आपको दो विकल्प मिलेंगे। पहला है शेयरिंग टैक्सी जिसमे किराया लगभग 400 रुपए प्रति व्यक्ति होगा। और दूसरा विकल्प है कि आप पूरी टैक्सी बुक कर सकते हैं जिसका किराया लगभग 4000 रुपए तक पड़ेगा।

गंगटोक जाने का बेस्ट समय?

गंगटोक कब जाये?

गंगटोक में सबसे ज्यादा भीड़ गर्मियों के समय होती है क्योंकि इस समय वेकेशंस होते हैं और इस प्रकार यहां पर चीजों के रेट भी बड़ जाते हैं। तो यदि आप एक एवरेज कॉस्ट में गंगटोक घूमना चाहते हैं तो हम आपको रिकमेंड करेगे कि आप गंगटोक सितम्बर से फरवरी के बीच जाएं।

गंगटोक में रुकने और खाने पीने की व्यवस्था –

गंगटोक में ठहरने की व्यवस्था आपको यहां के एम जी रोड नामक स्थान पर मिलेगी। यहां पर आपको बहुत से होटल मिल जायेंगे जिनका किराया लगभग 800 से लेकर 5000 तक हो सकता है। तो आप अपने बजट के हिसाब से यहां स्टे ले सकते हैं।
बात करें यहां पर खाने पीने की व्यवस्था की तो आपको बहुत से रेस्टुरेंट मिल जायेंगे जहां पर आपको नॉर्थ इंडियन साउथ इंडियन वेज नॉनवेज हर प्रकार का खाना मिल जायेगा। आपको एक समय के खाने की थाली का कॉस्ट लगभग 120 से 150 रुपए तक पड़ेगा।

गंगटोक में स्टे प्लान और गंगटोक में घूमने की जगहें?

अगर आप पूरे गंगटोक को अच्छी तरह एक्सप्लोर करना चाहते हैं तो आपको लगभग 6 दिन का प्लान बनाकर आना होगा। तभी आप पूरी तरह से यहां को स्थानों के नजारे देख कर उनका आनंद उठा सकते हैं। अब बात करते हैं कि आपको इन 6 दिन में कहां कहां घूमना चाहिए और कौन से स्थान को कब कवर करें ताकि आप एक प्रॉपर रूट से सफ़र करें।

गंगतोक में पहला दिन कहाँ घूमें –

अगर पहले दिन की बात करें तो आपको गंगटोक की लोकल साइट्स पर घूमना चाहिए। यहीं आस पास में ही आपको कई स्थान मिल जायेंगे। एम जी रोड से ही आपको टैक्सी मिल जायेगी जिसका कॉस्ट आपको 2500 से 3000 तक पड़ेगा और ड्राइवर आपको यहां के 7 लोकल साइट्स जैसे कि बनझाकरी वॉटरफॉल, सेवन सिस्टर वॉटरफॉल (7 धराएं), रोमटेक मॉनेस्ट्री, गणेशटोक (गणेश मंदिर), ताशी व्यू प्वाइंट ( कंचनजंगा माउंटेन रेंज का नजारा), हनुमानटोक (हनुमान मंदिर), और रोपवे ( गंगटोक शहर का दृश्य) घुमाकर वापस ले आयेगा। इन सभी स्थानों पर आपको बहुत ही अच्छा दृश्य देखने को मिल जायेगा।

गंगतोक में दूसरे दिन कहाँ घूमें –

दूसरे दिन आपको नाथू-ला पास जाना चाहिए जो की गंगटोक से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर भारत चाइना बॉर्डर है, यहां पर आपको बहुत ही सुंदर नज़ारा देखने को मिलेगा। साथ ही यहां से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर बाबा हरभजन सिंह का मंदिर स्थित है, तो आप यहां पर भी दर्शन कर सकते हैं ।

नाथूला जाने के मार्ग में लगभग 20 किलोमिटर पहले चंगू लेक नामक झील ग्लेशियर पर स्थित है। यहां पर भी आपको बहुत ही सुंदर नज़ारा देखने को मिलेगा। यहां पर आप याक राइडिंग का आनंद भी उठा सकते हैं। साथ ही फोटोशूट के लिए भी यह स्थान बेस्ट रहेगा।

आपको बता दे की नाथू-ला पास जाने के लिए आपको परमिट की अवश्यकता पड़ती है जो कि आपको टैक्सी ड्राइवर ही प्रोवाइड करवा देते हैं और इस पास का फेयर वो नाथूला के फेयर में ही एड कर देते हैं।

यह भी पड़ें : दार्जिलिंग कैसे घूमें? | दार्जिलिंग कहाँ स्थित है ?

गंगतोक में तीसरे दिन कहाँ घूमें –

अब बात करें तीसरे दिन की तो तीसरे दिन आपको जाना चाहिए लाचुंग जो कि गंगटोक से लगभग 120 किलोमिटर की दूरी पर स्थित है जिसे तय करने में 8 से 10 घंटे लग जाते हैं क्योंकि रास्ते में आपको ढेर सारे वाटरफॉल और अन्य चीजें देखने को मिलती हैं जिसे एक्सप्लोर करते हुए इतना समय लग जाता है।

लाचुंग में आप सिक्किम का ट्रेडिशनल फूड, कल्चर आदि का आनंद उठा सकते हैं। लाचुंग से 20 किलोमिटर पहले एक स्थान है चुंगथान जहां पर एक डैम बना हुआ है जहां से आपको बहुत सुंदर नज़ारा देखने को मिलेगा। तो आप यहां रुक कर भी अपना कुछ समय दे सकते हैं।

गंगतोक में चौथे दिन कहाँ घूमें –

लाचुंग पहुंचने और घूमने में आपको बहुत समय लग जाएगा इसलिए आपको यही पर स्टे लेना होगा। यहां पर भी रहने और खाने पीने का खर्चा लगभग गंगटोक के बराबर ही होता है।
अब बात करें चौथे दिन की तो आपको सुबह यहां से लगभग 25 किलोमिटर की दूरी पर स्थित स्थान युमथान जाना होगा। ये स्थान यहां की वैली, नेचर और नजारे के लिए फेमस है। इस वाले में आपको कई प्रकार के फूल मिलेंगे जिनकी सुंदरता देखते ही बनती है।

इसके बाद यहां से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जीरो प्वाइंट जहां पर आपको बहुत ही अलग अनुभव प्राप्त होता है। यहां पर हैवी स्नो होने की वजह से आपको बहुत सी स्नो एक्टिविटीज करने का भी मौका मिल जायेगा। साथ ही आप अपने साथ स्नो सूट, बूट्स और ग्लव्स वगेरह भी रखें। इसके बाद आप वापस लाचुंग आ जाएं और फिर से यही पर स्टे ले।

गंगतोक में पांचवें दिन कहाँ घूमें –

पांचवे दिन आपको लाचुंग से लाचिम होते हुए गुरुदोंगमार जाना होगा। लाचीम भी चीन बॉर्डर के पास स्थित है जो की चुमथान के बाद आता है चुमथान से लाचिम की दूरी लगभग 60 किलोमिटर है । लचिम में एक व्यू प्वाइंट है जिसका नाम है सिंगिक व्यू प्वाइंट , यहां से आपको कंचनजंगा माउंटेन की स्नो कवर्ड पीक का नज़ारा देखने को मिलेगा।साथ ही यहां पर बहुत सारे वाटरफॉल भी देखने को मिलेंगे।

इसके बाद आपको लाचिम से गुरुदोंगमार रवाना होना होगा जो की यहां से लगभग 30 किलोमिटर दूर स्थित है। यहां पर ही विश्व की सबसे ऊंची लेक यानी 5430मीटर एल्टीट्यूड पर स्थित गुरुदोंगमार लेक स्थित है। तो आप यहां पर भी कुछ समय व्यतीत कर सकते हैं।

गंगतोक में छठवें दिन कहाँ घूमें –

आपको बता दें कि छठे दिन आपको गंगटोक वापस लौटना है, क्योंकि गुरुदोंगमार से गंगटोक की दूरी लगभग 200 किलोमिटर है जिसमे वापस आने में आपको पूरा एक दिन लग ही जायेगा। तो आपको ट्रैवल के बाद गंगटोक में ही स्टे लेना होगा। और अगले दिन आप वापस अपने अपने शहर लौट सकते हैं।

गंगटोक घूमने का कुल खर्चा कितना होगा?

अंततः बात करें गंगटोक में 6 दिन के स्टे प्लान और घूमने के खर्चे की तो इसका कुल खर्चा लगभग 10000 रुपए प्रति व्यक्ति तक आयेगा। इसमें आपके गंगटोक आने के ट्रैन या फ्लाईट के टिकेट को इनक्लूड नहीं किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.