औली चमोली उत्तराखंड
x

औली कहाँ स्थित है? औली उत्तराखंड कैसे पहुंचे? सम्पूर्ण जानकारी

औली उत्तराखंड का बेहद खूबसूरत टुरिस्ट प्लेस है जो पूरी दुनिया भर में स्कीइंग के लिए बेहद प्रसिद्ध है। यह खूबसूरत जगह समुद्र तल से 2800 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जहां से आप नंदा देवी पर्वत पीक मान पर्वत पीक और कामत पर्वत पीक के शानदार और अद्भुत नजारे भी देख सकते हैं। यहां हर साल स्कीइंग की चैंपियनशिप भी की जाती है। तो चलिए आज में आपको बताऊंगा कि कैसे आप औली घूमने आ सकते हैं क्या है औली घूमने का सही तरीका?

औली चमोली उत्तराखंड
x
औली चमोली उत्तराखंड

औली कैसे पहुंचे? | औली के बारे में जानकारी

आप देश के किसी भी कोने में मौजूद हो आपको हरिद्वार या फिर देहरादून तक जरूर आना पड़ेगा। अगर आप बाइ फ्लाइट आना चाहते हैं तो नजदीकी एयरपोर्ट देहरादून में स्थित है । देहरादून से औली के बीच की दूरी 278 किलोमीटर है। यह दूरी आपको बाय रोड ही तय करनी पड़ेगी। दूसरा ऑप्शन है जो कि आप ट्रेन से आ सकते हैं। नजदीकी रेलवे स्टेशन हरिद्वार में है और हरिद्वार से औली के बीच की दूरी 288 किलोमीटर है। ये दूरी भी आपको बाय रोड ही तय करनी पड़ेगी ।

तो चलिए अब बात करते है बाय रोड की। हरिद्वार से जोशीमठ के बीच की दूरी 275 किलोमीटर है। इस दूरी को तय करने के लिए आपके पास दो ऑप्शन है या तो अब बस से चले जाइए या फिर आप किराये की टैक्सी ले लीजिए अगर अपनी कार या बाइक से आए हैं तो आप उससे भी जा सकते हैं। अगर तब बस से जाना चाहते हैं तो बस की भी टिकट ऑनलाइन बुक कर सकते हैं।

बस में किराया करीब 750 रहता है ऑनलाइन बुकिंग में। आप चाहे तो हरिद्वार में मौजूद टूर एंड ट्रैवल ऑफिस के थ्रू भी हरिद्वार से जोशीमठ का टिकट बुक कर सकते हैं जो ऑनलाइन की अपेक्षा थोड़ा सस्ता हो जाता है अगर आप और सस्ता चाहते हैं तो डायरेक्ट बस स्टैंड से भी बस ले सकते हैं।

हरिद्वार से औली की दूरी?

हरिद्वार से जोशीमठ के लिए बस सुबह 5:00 बजे से सुबह 9:00 बजे तक चलती रहती हैं और यह सबसे सस्ता तरीका है पर सुरक्षित तरीका यही है कि आप पहले से टिकट बुक कर ले। अगर आप हरिद्वार से सुबह अर्ली मॉर्निंग निकल जाते हैं तो शाम को 5:00 से 6:00 बजे तक आप आसानी से जोशीमठ पहुंच जाएंगे इस दिन आपको जोशीमठ में ही स्टे करना पड़ेगा। जोशीमठ होल्ड करने के लिए बहुत सारे होटल, रिज़ॉर्ट उपलब्ध हैं।

जोशीमठ में आपको साधा रूम भी 700 से 800 में मिल जाता है। महंगे रिज़ॉर्ट भी जोशीमठ में अवेलेबल है आप चाहे तो ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं। ऑनलाइन बुकिंग करना ज्यादा सुरक्षित रहता है क्योंकि कभी-कभी पीक टाइम में जोशीमठ में रूम मिलने में प्रॉब्लम हो जाती है। तो अगर आप औली घूमने आना चाहते तो ऑनलाइन होटल बुकिंग जरूर करें। फूड फैसिलिटी के लिए जोशीमठ में बहुत ज्यादा ऑप्शन नहीं है कुछ चुनिंदा रेस्टोरेंट और ढाबे है जाते हैं वहां आपको जनरल फूड आसानी से अवेलेबल हो जाएगा। नेक्स्ट डे आप जोशीमठ से औली के लिए जा सकते हैं।

जोशीमठ से औली जाने के रास्ते?

जोशीमठ से औली जाने के लिए भी दो अलग-अलग रास्ते हैं –

पहला रास्ता –

या तो अब बाय रोड चले जाइए या फिर आप रोपवे से चले जाइए दोनों तरीके के बारे में में डिटेल में आपको बताऊंगा क्या बेस्ट तरीका है वह भी आपको इस लेख में बताने वाला हूं। तो चलिए पहले रास्ते की बात करते हैं जो जोशीमठ से औली जाने के लिए है बाय रोड। अगर आप बाय रोड जाना चाहते हैं अगर आप अपनी पर्सनल कार टैक्सी या फिर बाइक लेकर आए हैं तो आप बाय रोड जा सकते हैं या फिर आप जोशीमठ में मौजूद टैक्सी स्टैंड से भी टैक्सी हायर कर सकते हैं।

10 किलोमीटर की ये जर्नी रहेगी जिसमे 1 से 2 घंटा इस पूरी जर्नी में लग जाता है। यह टैक्सी आपको GMVM रिसोर्ट के पास में ड्रॉप करेंगे वहां से आगे रोड खत्म हो जाता है उसके आगे अपना तो अपनी कार ले जा सकते ना बाइक और ना ही टैक्सी से आप आगे जा पाएंगे यही फाइनल पॉइंट होता है बाय रोड जाने का। अगर आप औली में ही स्टे करना चाहते हैं तो यहीं पर मौजूद GMVM रिजॉर्ट में आप स्टे कर सकते हैं।

इसके बाद औली के टॉप पॉइंट पर जाने के लिए आपको चेयर लिफ्ट का सहारा लेना पड़ेगा। चेयर लिफ्ट का टिकट एक पैसेंजर का रहता है करीब 300 से ₹500 रुपये। पहले इसका किराया ₹300 रहता था जिसे बाद में बढ़ाकर 500 कर दिया गया है। सीजन के अकॉर्डिंग यह चेंज भी होता रहता है। चेयर लिफ्ट से आप पॉइंट नंबर 8 तक जाएंगे पॉइंट नंबर 8 वो जगह है जहां पर स्कीइंग कराई जाती है और सारी एडवेंचर एक्टिविटी वहीं पर होती है यह था बाय रोड जाने का तरीका लेकिन पीक सीजन में यानी दिसंबर जनवरी या फरवरी के मन्थ में जब बहुत ज्यादा स्नोफॉल हो जाता है तो रोड पूरी तरह से ब्लॉक हो जाता है और इस रोड को बंद कर दिया जाता है।

दूसरा रास्ता –

तब ऑप्शन रहता है सिर्फ रोपवे का। आपको बताता हूं फिर से आप कैसे जा सकते हैं जोशीमठ में टिकट काउंटर मौजूद है वहां से आप टिकिट लीजिए। एक पैसेंजर का टिकट रहता है 1000 रुपये का। ट्रेक डिस्टेंस है 4 किलोमीटर का और इसमें 25 मिनट का समय लगता है। रोपवे की स्पीड 3 मीटर प्रति सेकंड रहेगी और कैबिन की कैपेसिटी 25 पैसेंजर की है और जो टिकट आप लेंगे ₹1000 का इसकी वैलिडीटी 3 दिन तक रहती है। यानि अगर आपने आज टिकट लिया तो आप नेक्स्ट डेविस ट्रिप कर सकते हैं और अगर आप 1 रात वहीं रुकते है तो अगली सुबह आप इसी टिकिट में रिटर्न आ सकते हैं।

इस पूरे रोपवे में दस अलग-अलग पॉइंट है। पॉइंट नंबर 8 जहां सबसे ज्यादा टूरिस्ट उतर जाते हैं। यह वही पॉइंट है जो औली का मेन पॉइंट है यहीं पर ही स्कीइंग और दूसरी एडवेंचर एक्टिविटी आप कर सकते हैं। रोपवे अभी इससे आगे भी और ऊपर तक जाता है जो 10 पॉइंट तक जाता है। यह हाईएस्ट पॉइंट है जो सबसे ज्यादा बर्फ आपको देखने के लिए मिलेगी। बहुत से टूरिस्ट पॉइंट नंबर 10th तक भी जाते हैं। पॉइंट नंबर एक पर आपको खाने पीने के ज्यादा ऑप्शन देखने के लिए मिल जाएंगे वही पॉइंट नंबर 10 पर जो अली का टॉप ऑफ द पॉइंट है वहाँ फूड के ज्यादा ऑप्शन नहीं है वहां आपको चाय मैगी कोल्ड ड्रिंक यहीं मिल पाएगा।

यह आपको चूज करना है कि आप कहां जाएंगे। औली जाने से पहले आप जोशीमठ में स्नोशूज भी रेंट पर ले सकते हैं स्नोशूज जरूरी हैं अगर आप दिसंबर जनवरी या फरवरी के महीने में औली आ रहे हैं। स्नोशूज का रेंट 50 रुपये 1 दिन का रहता है। आप चाहे तो ने परचेज भी कर सकते हैं।

औली में रोपवे (Rope way ) की टाइमिंग क्या रहती है?

अब बात करें तो डिटेल में आपको टाइम भी बता देते हैं क्या-क्या टाइम रहता है ताकि आपको जाने में परेशानी ना हो। यह पूरी टाइमिंग लिस्ट है रोपवे की जोशीमठ से औली के लिए और औली से जोशीमठ वापस आने के लिए। सुबह 9:15 पर रोपवे स्टार्ट हो जाता है और शाम को 4:20 तक चलता है वही रिटर्न आते वक्त सुबह 9:15 पर रोपवे स्टार्ट हो जाता है 4:30 पर लास्ट रोपवे रहता है यह सारी टाइमिंग है और दोपहर में 1:00 बजे के करीब लंच टाइमिंग रहता है।

औली रोपवे टाइम चार्ट
x
औली रोपवे टाइम चार्ट

औली से वापस आते वक्त आपको शाम को यह ध्यान रखना होगा कि लास्ट रोपवे टाइमिंग 4:15 है तो 4:00 बजे से पहले ही आप रोपवे काउंटर पर पहुंच जाइए ताकि आपकी वह लास्ट लीफ मिस ना हो जाए उसके बाद आपके पास कोई ऑप्शन नहीं रहेगा आपको मजबूरन औली में ही स्टे करना पड़ेगा तो इंजॉय करते हुए यह बात ध्यान जरूर रखें कि 4:00 बजे से पहले ही आपको रोपवे तक पहुंचना है ताकि आप लास्ट ट्रिप मिस ना कर पाए हो सके तो उसे पहली वाली रोपवे से रिटर्न नीचे आ जाए। क्योंकि शाम के वक्त बहुत ज्यादा भीड़ हो जाती है।

क्योंकि कभी-कभी सभी लोग यही सोचते हैं कि हम लास्ट रोपवे से ही जाएंगे। तो रोपवे की कैपेसिटी मात्र 25 पैसेंजर की रहती है तो आप 3:00 या 3:30 बजे तक वापस जोशीमठ आ जाए। तो यह दोनों तरीके थे औली पहुंचने के। मेरे हिसाब से बेस्ट तरीका है कि आप रोपवे से जाएं। 1000 रुपये में आप औली पहुंच भी जाएंगे और वापस भी आ जाएंगे। अगर आप बाय टेक्सी से जाते हैं तो वह काफी ज्यादा कॉस्टली हो जाएगा।

अगर आप अपनी पर्सनल कार बाइक से आए हैं तो भी ठीक है पर समटाइम स्नोफॉल की वजह से रोड बंद हो जाता है तो बेस्ट ऑप्शन है कि अब जोशीमठ में ही अपनी गाड़ी कार जो भी है उससे पार्किंग में लगाइए और आप रोपवे से औली घूमने चले जाइए।

अगर औली में स्टे करने के मूड में है तो अब GMVN के गेस्ट हाउस में स्टे कर सकते हैं। कुछ हट वहां बनी हुई है उन्हें भी आप पर्सनली बुक कर सकते हैं। बुकिंग के लिए आप GMVN की वेबसाइट पर जाकर इनको बुक कर सकते हैं। पर मेरा मानना है कि अगर आप औली में स्टे न भी करें जोशीमठ ही स्टे करें ,तो भी आप की ट्रिप बहुत ही ज्यादा शानदार हो जाएगी।

विंटर में अगर आप जाते हैं तो वो अर्ली मॉर्निंग आप औली के लिए निकल जाइए और आराम से पूरा दिन इंजॉय करने के बाद वापस श्याम तक रोपवे से आप जोशीमठ आ जाइए। याह एक बेस्ट तरीका रहता है औली का कम बजट में और अच्छे से एक्सप्लोर करने के लिए।

औली जोशीमठ में एडवेंचर एक्टिविटी –

चलिए अब बात करते हैं कि औली पहुंचने के बाद अब क्या-क्या एक्टिविटीज वहां पर कर सकते हैं औली में बहुत सी एडवेंचर एक्टिविटी होती है आप चाहे तो स्कीइंग कर सकते हैं। पूरा दिन अगर आप स्कीइंग करना चाहते हैं तो 2000 ,3000 तक किराया लिया जाता है स्कीइंग करने का ऑप्शन मिल जाएगा अगर आप बेसिक कोर्स करना चाहते हैं तो 1 घंटे के लिए आपको ₹500 पे करना होगा वह आपको बेसिक ट्रेनिंग देंगे और आप 1 घंटे तक स्कीइंग को इंजॉय कर सकते हैं आप कर सकते हैं।

स्नोबोटिंग भी आप यहाँ कर सकते हैं। स्नोबोटिंग का किराया पर डे 1000 से 3000 तक रहता है पर घंटे के हिसाब से भी वह चार्ज करते है जो 500 रुपये प्रति घंटे रहता है। ट्यूब रीडिंग भी आप कर सकते है जिसका किराया है 100 रुपये एक राइड का। अगर आप औली टॉप पर जाते हैं तो आप आर्टफिशल लैक वहाँ पर देख सकते है।

जो दिसंबर जनवरी में पूरी तरह बर्फ से ढकी हुई रहती है। और अगर आप मार्च-अप्रैल के मंथ में आते हैं उसके बाद आते हैं तो अब आप वाटर भी देखने के लिए मिल जाएगा। स्नो बाइक आप इंजॉय कर सकते हैं। वहाँसे आप नंदा देवी पीक के शानदार नजारे देख सकते हैं और भी बहुत सी दिलचस्प स्नो एक्टिविटीज आप वहां पर कर सकते हैं।

औली में स्कीइंग में सर्टिफिकेट कोर्स

औली में स्कीइंग की एक चैंपियनशिप भी कराई जाती है आप अगर स्कीइंग करना जानते हैं तो आप उसमें भी पार्टिसिपेट कर सकते हैं। अगर आप औली में आने के बाद स्कीइंग कोर्स करना चाहते हैं तो वह भी आप कर सकते हैं। 7 डे नॉन सर्टिफिकेट कोर्स वहाँ कराया जाता है और 14 डे नॉन सर्टिफिकेट भी कोर्स कराया जाता है। इसके अलावा सर्टिफिकेट कोर्ट भी आप औली में रहने के बाद कर सकते लेकिन उसके लिए आपको 7 से 14 दिन का वहां पर स्टे करना होगा। आप सर्टिफाइड हो सकते हैं स्कीइंग में। औली उत्तराखंड की बहुत ही शानदार जगह है अगर आप स्नो को इन्जॉय करना चाहते हैं, तो औली एक बेस्ट प्लेस है उत्तराखंड का।

औली उत्तराखंड जाने का बेस्ट टाइम क्या है?

मेरे हिसाब से बेस्ट टाइम है औली का दिसंबर से लेकर मार्च तक । औली में सबसे ज्यादा मजा स्नो का होता है और स्नो दिसंबर जनवरी, फरवरी और मार्च के महीने तक ही वहाँ स्नो मिलती है उसके बाद वहां स्नो नहीं मिल पाएगी। तो जो लोग स्नो एंजॉय करना है तो बेस्ट टाइम दिसंबर से मार्च ही रहता है औली का। इसके अलावा आप औली में गुरसों बुग्याल ट्रेक भी कर सकते हैं। लेकिन दिसंबर से मार्च के महीने के बीच में आप वहाँ नहीं जा सकते उसके लिए आपको गर्मियों में आना पड़ेगा और गुरसों बुग्याल भी आप ट्रैक कर सकते हैं देखने जा सकते हैं।

यह ट्रैक बहुत ही शानदार रहता है वहां आपको घास के हरे-हरे मैदान देखने के लिए मिलेंगे। इस लुफ़त आप गर्मियों के महीने में ही उठा सकते हैं। इसके अलावा जोशीमठ में भी आप एक दिन स्टे करने के बाद कुछ एक्स्ट्रा चीजें एक्सप्लोर कर सकते हैं। विष्णुप्रयाग आप जा सकते हैं जहां आपको अलकनंदा रिवर और धौली गंगा का संगम देखने के लिए मिलेगा तो बहुत सी अलग-अलग एक्टिविटी आने के बाद कर सकते हैं। मेरे हिसाब से 1 दिन में ही औली को पूरी तरह से कर आप इंजॉय कर सकते हैं। स्टे करने की आपको जरूरत नहीं है। अगर आप स्टे करना चाहते है तो बहुत से ऑप्शन आपको मिल जाएंगे ऑनलाइन बुकिंग कीजिए वहाँ स्टे कर लीजिए।

नैनीताल से औली की दूरी?

नैनीताल से औली की दूरी 277.7 km है जोकि राष्ट्रीय राजमार्ग 109 और राष्ट्रीय राजमार्ग 7 से होकर गुजरता है। वहीं रानीखेत से औली की दूरी 220 किलोमीटर है।

One thought on “औली कहाँ स्थित है? औली उत्तराखंड कैसे पहुंचे? सम्पूर्ण जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.