Digital sewa and tour and travel guide

Just another WordPress site

  1. Home
  2. /
  3. internet
  4. /
  5. कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence)क्या है?

कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence)क्या है?

ऐतिहासिक रूप से वैश्विक महाशक्तियों के मध्य प्रौद्योगिकी प्रतियोगिता, भू-राजनीति का एक मुख्य पहलू रही है। इस युग में इसे अमरीका और चीन के बीच भू-राजनीतिक कूटनीति में प्रत्यक्षतः परिलक्षित किया जा सकता है। ऐसी ही एक तकनीकी प्रतियोगिता कृत्रिम बुद्धिमत्ता या आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में आसानी से देखी जा सकती है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता वह प्रक्रिया है, जिसमें मशीनों को इंसानों की तरह सोचने के लिए प्रोग्राम किया जाता है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता अपनी भूमिका एवं व्यापक उपयोगिता के कारण महत्वपूर्ण तकनीक के रूप में उभरा है।

हालांकि, कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग कई गलत उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है, जैसे-गलत सूचना, आपराधिक गतिविधि, व्यक्तिगत गोपनीयता का अतिक्रमण या तकनीक प्रेरित बेरोजगारी को प्रेरित करना। इसलिए वैश्विक समुदाय कृत्रिम बुद्धिमत्ता के सकारात्मक पक्ष का लाभ उठाने का प्रयास कर रहा है, अतः उन्हें इससे जुड़ी चुनौतियों का सामना करना चाहिए तथा कृत्रिम बुद्धिमत्ता के लिए मानव-केंद्रित दृष्टिकोण विकसित करना चाहिए।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रणाली क्या है?

यह नहीं भूलना चाहिए कि “कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रणाली” मनुष्यों द्वारा बनाया गया है, जो पक्षपाती और निर्णयात्मक हो सकते है। इस प्रकार कृत्रिम बुद्धिमत्ता पूर्वाग्रहों और असमानताओं को बढ़ावा दे सकता है, यदि कृत्रिम बुद्धिमत्ता एल्गोरिदम का प्रारम्भिक प्रशिक्षण पक्षपाती है।

उदाहरण के लिए – कृत्रिम बुद्धिमत्ता का प्रयोग कर चेहरे की पहचान और निगरानी तकनीक को रंग या किसी विशिष्ट पहचान से जोड़ कर लोगों के साथ भेदभाव किया जा सकता है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता सिस्टम बड़ी मात्रा में डेटा का विश्लेषण करके सीखते हैं और अगली बार यदि उससे मिलता-जुलता डेटा सामने आए तो उन्हीं विश्लेषण के आधार पर निष्कर्ष देते हैं, साथ ही वे इंटरेक्शन डेटा और उपयोगकर्ता की प्रतिक्रियाओं के निरंतर मॉडलिंग के माध्यम से अनुकूलन करते रहते हैं। इस प्रकार कृत्रिम बुद्धिमत्ता के बढ़ते उपयोग के साथ किसी की गतिविधियों की निगरानी कर उसके डेटा तक अनधिकृत पहुँच से निजता का अधिकार खतरे में पड़ सकता है।

बाजार में कार्यरत् बड़ी शक्तियाँ कृत्रिम बुद्धिमत्ता के दोनों स्तरों, वैज्ञानिक / इंजीनियरिंग तथा वाणिज्यिक और उत्पाद विकास, पर भारी निवेश कर रहे है। किसी भी महत्वाकांक्षी प्रतियोगी की तुलना में इन बड़ी शक्तियों को कहीं अधिक लाभ होगा, जो तकनीक प्रेरित एकाधिकार या अल्पाधिकार को बढ़ावा देगा।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के लाभ क्या हैं?

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के कुछ प्राथमिक लाभ इस प्रकार हैं –

“कृत्रिम बुद्धिमत्ता” की सहायता से किसी कार्य को अपेक्षाकृत कम समय में किया जा सकता है। यह मल्टी-टास्किंग को सक्षम बनाता है और मौजूदा संसाधनों पर कार्यभार को कम करता है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता महत्वपूर्ण एवं जटिल कार्यों को बिना किसी विशेष लागत के पूरा करने में सक्षम बनाता है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता बिना किसी रुकावट या ब्रेक के चौबीसों कार्य कर सकता है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता विशेष रूप से सक्षम व्यक्तियों की क्षमताओं को बढ़ाता है। बाजार के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता विविध रूपों में उपयोगी है। इसे उद्योगों में प्रयुक्त किया जा सकता है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता कार्य की प्रक्रिया को तेज और स्मार्ट बनाकर निर्णय लेने की सुविधा प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें : आयुष्मान भारत मिशन क्या है? एबीडीएम (ABDM) के उद्देश्य?

कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग –

इन लाभों के आधार पर कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग कई सकारात्मक तरीकों से किया जा सकता है। जैसे-नवाचार को बढ़ावा देने दक्षता बढ़ाने, विकास में सुधार करने और उत्पादों के उपभोक्ता के अनुभव को समृद्ध करने के लिए भारत के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता तकनीक का प्रयोग निश्चित तौर पर समावेशी विकास से जुड़ा होगा, जिसका कई क्षेत्रों जैसे कृषि, स्वास्थ्य और शिक्षा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने की सम्भावना मशीन लर्निंग और बिग डेटा में हालिया सफलताओं से प्रेरित, कृत्रिम बुद्धिमत्ता उभरती प्रौद्योगिकियों पर अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग की सम्भावनाओं और चुनौतियों के लिए एक अच्छा प्लेटफॉर्म है।

यह इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Electronics and IT-MEITY), राष्ट्रीय ई-गवर्नेस डिवीजन (National e-Governance Division NEGD) और नैसकॉम (NASSCOM) की एक संयुक्त पहल है। वर्ष 2009 में डिजिटल इंडिया कॉर्पोरेशन ( MEITY द्वारा स्थापित एक गैर-लाभकारी कम्पनी) के तहत् NEGD को एक स्वतंत्र व्यापार प्रभाग के रूप में स्थापित किया गया था।

NASSCOM क्या है?

NASSCOM एक गैर-लाभकारी औद्योगिक संघ है, जो भारत में आईटी उद्योग के लिए सर्वोच्च निकाय है”। यह भारत और उसके बाहर कृत्रिम बुद्धिमत्ता से सम्बन्धित समाचार, सीखने, लेख, घटनाओं और गतिविधियों आदि के लिए एक केन्द्रीय हब (Hub) के रूप में कार्य करता है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के निर्माण?

कृत्रिम बुद्धिमत्ता कम्पनियाँ ऐसी मशीनों का निर्माण कर रही हैं, जो आमतौर पर कम आय वाले श्रमिकों द्वारा किए जाने वाले कार्यों को करती है। उदाहरण के लिए – कैशियर को बदलने के लिए सेल्फ सर्विस कियोस्क, फील्ड वर्कर्स को बदलने के लिए फ्रूट- पिकिंग रोबोट आदि इसके अलावा, वह दिन दूर नहीं जब कृत्रिम बुद्धिमत्ता द्वारा कई डेस्क जॉब, जैसे कि एकाउंटेंट, वित्तीय व्यापारी और प्रबंधक को भी समाप्त कर दिया जाएगा।

AI (Artificial Intelligence)से जुड़ी नीतियाँ –

यह देखते हुए कि विभिन्न सरकारों ने हाल ही में AI से जुड़ी नीतियाँ बनाई हैं और कुछ देशों में अभी भी इससे जुड़ी नीतियाँ तैयार हो ही रही है, बहुपक्षीय स्तर पर मानको की स्थापना में अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग अभी भी बेहद जरूरी है। लचीली आपूर्ति श्रृंखला का निर्माण प्रतिभा से परे अतिरिक्त चुनौतियाँ जैसे, आवश्यक बुनियादी ढाँचा हासिल करना लचीली आपूर्ति शृंखला सुनिश्चित करने, अन्तर्राष्ट्रीय मानक, शासन आवश्यक भौतिक बुनियादी ढाँचे के विकास के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण खनिजों और अन्य कच्चे माल को सुनिश्चित करने पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

प्रौद्योगिकी क्रांति(Technology Revolution-)-

कृत्रिम बुद्धिमत्ता, प्रौद्योगिकी क्रांति के विकास के लिए बहुत बड़ा अवसर है, लेकिन यह सुनिश्चित करना होगा कि प्रौद्योगिकी का सही दिशा में उपयोग किया जाएगा। इस सम्बन्ध में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पहले से ही कुछ कदम उठाए जा रहे हैं, जैसे कि व्याख्या करने योग्य कृत्रिम बुद्धिमत्ता और यूरोपीय संघ का सामान्य डेटा संरक्षण विनियमन।

यह भी पढ़ें : डिजिटल भुगतान (Digital Payment) क्या होता है?

17 thoughts on “कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence)क्या है?

  1. What’s up to every body, it’s my first pay a visit of this
    web site; this website consists of awesome and in fact fine material for visitors.

  2. Howdy! I could have sworn I’ve been to this blog before but after reading through some of
    the post I realized it’s new to me. Anyways, I’m definitely glad I found it and I’ll
    be book-marking and checking back often!

  3. all the time i used to read smaller content that as well clear their motive, and that is also happening with this article which I am reading here.

  4. Thanks for one’s marvelous posting! I really enjoyed reading
    it, you are a great author.I will remember to bookmark your blog and definitely will
    come back someday. I want to encourage yourself to continue your great writing,
    have a nice day!

  5. Hello there, just became alert to your blog through Google, and found
    that it is truly informative. I’m going to watch out for brussels.
    I’ll appreciate if you continue this in future. Numerous people will be benefited from your writing.
    Cheers!

  6. You really make it appear so easy together with your presentation but I find this matter to be actually something that I believe I would by
    no means understand. It sort of feels too complicated and extremely extensive for me.
    I’m having a look ahead to your subsequent publish,
    I will attempt to get the dangle of it!

  7. naturally like your web-site however you need to test the spelling on quite a few of your posts.

    A number of them are rife with spelling problems and I to find it very troublesome to tell the truth nevertheless I’ll surely come back
    again.

  8. Hello Dear, are you truly visiting this site daily, if so afterward you will definitely take nice experience.

Leave a Reply

Your email address will not be published.